बाल कविता : परीक्षा आई..

FILE


- पंकज कुमार उपाध्या

परीक्षा आई, परीक्षा आई

ये दिन तो अब पढ़ने के भाई

खेलना-कूदना रास न आया
पढ़ने में ही मन लगाया
रोज सबेरे जल्दी उठते
देर रात तक पढ़ते रहते,

अच्छे अंक लाना तुम
अव्वल कहलाना तुम

खूब मिलेगी
तभी बधाई-मिठाई

परीक्षा आई, परीक्षा आई।



और भी पढ़ें :