ईरानी उपग्रह का सफल प्रक्षेपण

प्रक्षेपण से अमेरिका, ब्रिटेन चिंतित

तेहरान (वार्ता)| वार्ता|
अपने विवादित परमाणु कार्यक्रम को लेकर पश्चिमी देशों की आँखों की किरकिरी बने के पूर्णतः स्वदेशी तकनीकी पर आधारित पहले के पर ब्रिटेन, अमेर‍िका और इसराइल ने चिंता प्रकट की है।


ईरान की ओर से मंगलवार को 'ओमिद' नामक शोध एवं संचार उपग्रह को सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करने की घोषणा के बाद पश्चिमी देशों ने उसके परमाणु कार्यक्रम को इससे बढ़ावा मिलने को लेकर चिंता जताई।

अमेर‍िका और ने ईरान के प्रति उपग्रह कार्यक्रम में बेलेस्टिक प्रक्षेपास्त्र तकनीक का इस्तेमाल करने की आशंका जताते हुए संयुक्त राष्ट्र से उसके परमाणु और प्रक्षेपास्त्र कार्यक्रम को बंद कराने का भी अनुरोध किया है।
अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रॉबर्ट वुड ने ईरान के उपग्रह प्रक्षेपण को अमेरिका के लिए गंभीर चिंता का विषय बताया है। इसके अलावा ब्रिटेन के विदेश विभाग में संबद्ध मंत्री बिल रामेल ने भी इस पर चिंता व्यक्त करते हुए ईरान की मंशा को संदेहास्पद बताया और कहा कि इससे अंतरराष्ट्रीय समुदाय में सही संदेश नहीं जाएगा।

इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने चेतावनी दी है कि परमाणु संवर्धन कार्यक्रम रोकने के संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव की अनदेखी करने पर ईरान को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।
इससे पहले ईरान के राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद ने प्रक्षेपण के बाद राष्ट्र के नाम अपने संदेश में कहा कि प्यारे देशवासियों तुम्हारे लाड़ले सपूतों ने पहली बार स्वदेशी तकनीकी से बना उपग्रह प्रक्षेपित करने में कामयाबी हासिल की है।

ईरान के रक्षा मंत्री मुस्तफा मोहम्मद नाजर ने इसे सफल प्रक्षेपण करार देते हुए बताया कि उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में स्थापित हो गया है और इससे संपर्क स्थापित कर लिया गया है तथा जरूरी सूचनाएँ मिलना शुरू हो गई हैं।



और भी पढ़ें :