मुझे हर कहीं कविता दिखाई देती है

- संतोष अलेक्स

WD|
FILE
कहा जा रहा है कि कविता खत्म हो रही है
पर मुझे हर कहीं कविता दिखाई देती है
मां की आंखों में
पिता की सोच में
भाई की बेचैनी में
बहन की हंसी में

जिसे मैं छूता हूं
देखता हूं
महसूस करता हूं
हर वह चीज कविता
झरनों का बहना
नदी का समुंदर में समाना
और सुबह का आसमान

कविता ही तो रचती हैं
शाम को लौटती हुईं चिडि़यां

किसान का बीज बोना
उसके बदन पर चमक‍ती
पसीने की बूंद
कविता हैकविता है समूचा जीवन
समूची धरती ही कविता है।



और भी पढ़ें :