प्रेम संदेश लाया है बसंत

vasant
NDND
शीत की बंद कोठरी के द्वार से
अंधेरे को उजालों में लाया है वसंत।

महकती कलियों के लिए भौंरो का ,
लाया है वसंत।

पीले से मुख पर वसंती आभा
बिखेरता हुआ आया है वसंत।

किसानों के लिए फसलों की सौगात
लेकर आया है वसंत।

जीवन को जीवन देने ,
फ़िर से आया है वसंत।

पढ़ते हुए बच्चों के लिए,
माँ सरस्वती का वरदान
WD|
शोभना चौरे
लेकर आया है वसंत।



और भी पढ़ें :