उसने मुझे चूमा और अब मैं कोई और हूं

FILE

उसने मुझे चूमा और
अब मैं कोई और हूं
धड़कनों में कोई और
जो मेरी नसों में धड़कता है

और वह सांसों में घुल-मिल जाती
अब मेरी कोख उतनी ही उदात्त
जितना मेरा हृदय

और फूलों की सांसों में पाई जाती
मेरी सां सें
यह सब उसके कारण
जो पलता कोख में मेरी
जैसे कि
घास पर ओस।

अनुवाद- नरेंद्र जैन
WD|
- ग्रॅब्रिएला मिस्त्रा
(पहल की पुस्तिका ‘पृथ्वी का बिंब’ से साभार)



और भी पढ़ें :