आहार का रखें खास ख्याल

ND|
के बाद हममें स्फूर्ति बढ़नी चाहिए, शरीर हल्का लगना चाहिए और स्थिति ऐसी होनी चाहिए कि हम काम कर सकें और जरूरत पड़ने पर दौड़ सकें। यदि भोजन के बाद शरीर भारी लगे, आलस्य या नींद आए, तो समझ लीजिए कि या तो आपकी शक्ति कमजोर है या हमने बिना चबाए जल्दी-जल्दी और आवश्यकता से अधिक खा लिया है। में अदरक, नींबू और आँवला लें। प्रतिदिन खाली पेट एक प्याला गरम पानी लें। संभव हो तो 2-3 बार छाछ लें। पत्तेदार भाजियाँ भोजन में अवश्य लें। ये सावधानियाँ रखें और स्वस्थ जीवन पाएँ।


अच्छी पाचन शक्ति बनाए रखने के लिए ध्यान रखने हेतु विशेष बातें

* आहार ठीक से पकाया हुआ होना चाहिए और उसे गरम-गरम (उचित) खाना चाहिए।


* ऐसे गेहूँ के आटे का उपयोग करना चाहिए जिसमें से चोकर न निकाला गया हो। चावल मशीन द्वारा पॉलिश हुए सफेद चावल का उपयोग कम कीजिए।

* तली हुई वस्तुओं का उपयोग कम कीजिए।

* आहार में छाछ, दही अधिक मात्रा में लें।

* ऋतु के अनुसार फल, साग-भाजी (कच्ची या ठीक से पकाई हुई) का सेवन करना चाहिए।

* आहार को अच्छी तरह चबाइए।

* दो बार के भोजन के बीच 5-7 घंटे का अंतराल दीजिए।
* दो बार के भोजन के बीच पानी या छाछ के सिवा कुछ भी खाने-पीने की आदत बंद कीजिए।

* पेट भी एक यंत्र है। उसे भी सप्ताह में दो जून पर्याप्त आराम देना चाहिए। उस समय फल, फलों का रस या कुनकुना (गरम) जल ले सकते हैं।



और भी पढ़ें :