जान लेती है तंबाकू की लत

ND
संपूर्ण विश्व तंबाकू से होने वाले खतरों और बीमारियों से जूझ रहा है। इस संबंध में जितनी जागरूकता बढ़ी है उससे कई गुना अधिक इसके उत्पादों की खपत बढ़ गई है। कम उम्र के बच्चे व किशोर भी धड़ल्ले से गुटखा चबाते या सिगरेट का धुआँ उड़ाते नजर आते हैं।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का मूल प्रयोजन भी तंबाकू के खतरों के प्रति जागरूकता उत्पन्न करना है। परंतु इसके लिए मात्र प्रचार सामग्रियों का उपयोग, रैलियों या व्याख्यानमाला का आयोजन आदि पर्याप्त नहीं है। ज्यादा जरूरी और सार्थक पहल तो यह है कि तंबाकू के व्यसन से मुक्त प्रत्येक व्यक्ति कम से कम अपने एक व्यसन प्रेमी मित्र, सहपाठी या संबंधी को तंबाकू से मुक्त कराने का संकल्प ले व इसके लिए जी तोड़ प्रयास करे।
  विश्व तंबाकू निषेध दिवस का मूल प्रयोजन भी तंबाकू के खतरों के प्रति जागरूकता उत्पन्न करना है। परंतु इसके लिए मात्र प्रचार सामग्रियों का उपयोग, रैलियों या व्याख्यानमाला का आयोजन आदि पर्याप्त नहीं है।      


गर्मियों के मौसम में छुट्टियाँ बिताने अधिकांश लोग बाहर निकल पड़ते हैं। प्रवास का सही आनंद तभी है जब प्रवास के दौरान हम स्वस्थ रहें। छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर प्रवास को सेहतमंद व आनन्द से भरपूर बनाया जा सकता है। मधुमेह के रोगियों को मीठेपन के स्वाद से वंचित रहना जरूरी नहीं है। शक्कर के ऐसे कई मीठे विकल्प आपको सेहत का यह अंक उपलब्ध करा रहा है।

- प्रधान संपाद




और भी पढ़ें :