जीरो फिगर का नया ट्रेंड

करीना और जीरो फिगर

PRPR
दुबला-पतला दिखना हर लड़की की चाह होती है और आजकल तो 'जीरो फिगर' का चलन है। फिल्म 'टशन' में अपने के जलवे दिखाकर अभिनेत्री आज एक 'स्टाइल आइकॉन' बन गई है, जिसका अनुसरण करते हुए कई लड़कियाँ जीरो फिगर बनाने की होड़ में जुट गई हैं।

लड़कियोलिकल तक (36-24-36) साइज को 'परफेक्ट फिगर' माना जाता था किंतु आज यूरोपीयन मॉडल्स की तर्ज पर में भी 'जीरो फिगर' (31-23-32) का चलन है।

जिसे पाने के लिए अभिनेत्रकरीना कपूर ने 'पावर योग' व सख्त डाइट का सहारा लिया। करीब आठ महीने की कड़ी मेहनत के बाद करीना इस 'जीरो फिगर' को पाने में सफल रही।

PRPR
आजकल युवा लड़कियों में भी अपनी सेहत को लेकर पहले से अधिक जागरूकता आई हैं। अपने फिगर को मेंटेन करने के लिए वे फिटनेस सेंटर और योगा क्लासेस में जाकर लाखों रुपए खर्च करती हैं।

फिल्मी अभिनेत्रियों की तर्ज पर युवा लड़कियों को भी जीरो फिगर पाने का नया भूत चढ़ा है। 'जीरो फिगर' का यह नया ट्रेंड अभिनेत्रियों के लिए भले ही फायदेमंद हो किंतु आपके लिए जरूर नुकसानदेह हो सकता है।

वजन बढ़ाना, घटाना, बाल छोटे-बड़े करना... यह सब कलाकारों के पेशे का एक अहम हिस्सा है। अब दर्शकों की चहेती करीना को ही लीजिए जो अपनी अगली फिल्म के लिए जीरो फिगर भूलकर फिर से अपना वजन बढ़ाने में लगी है।

IFMIFM
'फिट एंड फाइन फिटनेस सेंटर' की संचालिका आरती दुबे के अनुसार- 'आजकल हमारे पास 10 कस्टमर्स में से 3 'टशन' की करीना की तरह जीरो फिगर पाने की चाह में आती हैं।

हम भी मानते हैं कि अचानक बहुत अधिक वजन कम करके शरीर को एक विशेष आकार में ढालना शरीर के लिए बहुत अधिक नुकसानदेह होता है परंतु कस्टमर्स को संतुष्ट करना भी हमारे लिए आवश्यक होता है।'

चिकित्सकों की माने तो जीरो फिगर का जादू अधिक समय तक नहीं चल पाएगा क्योंकि अपने शरीर की आवश्यकताओं को नजरअंदाज कर उसे कष्ट देना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।

वजन कम करने के प्राणायाम, व्यायाम आदि कई कुदरती उपाय हैं जिनसे धीरे-धीरे वजन कम होता है लेकिन एक माह में ताबड़तोड़ 10-12 किलोग्राम वजन कम करना शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक हो सकता है।

कल तक अपने मांसल से दर्शकों को आकर्षित करने वाली ये अभिनेत्रियाँ जीरो फिगर का चलन कब तक बरकरार रख पाएँगी। यह तो हम सभी जानते ही हैं।

गायत्री शर्मा|
वजन कम करो किंतु इतना भी नहीं कि हम खाना-पीना भी भूल जाएँ और हमारा शरीर तंदुरूस्त बनने की बजाय कमजोर हो जाए। फैशनेबल बनने की तर्ज में शरीर की आवश्यकताओं का भी ध्यान अवश्य रखें क्योंकि जान है तो जहान है।



और भी पढ़ें :