श्री सरस्वती चालीसा

WD

दोह

मातु सूर्य कान्ति तव, अन्धकार मम रूप।

डूबन से रक्षा करहु परूं न मैं भव कूप॥

बलबुद्धि विद्या देहु मोहि, सुनहु सरस्वती मातु।

राम सागर अधम को आश्रय तू ही देदातु॥

(इति शुभम)













सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :