प्रशांत किशोर चुनावी रणनीतिकार की भूमिका से हट जाएंगे, निर्वाचन आयोग पर साधा निशाना

Last Updated: रविवार, 2 मई 2021 (21:25 IST)
कोलकाता। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की बड़ी जीत के बीच ने रविवार को कहा कि मैं अब यह जगह खाली कर रहा हूं। उन्होंने निर्वाचन आयोग पर आरोप लगाया कि वह भाजपा की सहयोगी की तरह काम कर रहा है। किशोर ने दिसंबर में दावा किया था कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा दहाई के आंकड़े को पार नहीं कर पाएगी और ऐसा हुआ तो वे रणनीति बनाने का काम बंद कर देंगे। किशोर ने निर्वाचन आयोग पर भी हमला करते हुए उस पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया।
ALSO READ:
एक्सप्लेनर: बंगाल में मोदी को ममता ने दी मात, प्रशांत किशोर के संग कुछ ऐसे तैयार किया जीत‌ का हैट्रिक प्लान

अब तक विभिन्न दलों के नेताओं के लिए चुनावी रणनीति बनाने का काम करने वाले किशोर ने 'इंडिया टुडे' टीवी चैनल से कहा कि वे अब इस भूमिका से हट रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं अब यह जगह खाली कर रहा हूं। किशोर ने तृणमूल कांग्रेस की विधानसभा चुनाव में जीत के लिए चुनावी रणनीति बनाने में मदद की थी।
किशोर ने कहा कि इस तरह का पक्षपाती निर्वाचन आयोग कभी नहीं देखा और उसने भाजपा की मदद के लिए तमाम कदम उठाए। भाजपा को धर्म का इस्तेमाल करने दिया, उसके मुताबिक चुनावी कार्यक्रम बनाए गए और नियमों से खिलवाड़ किया गया।

एनडीटीवी चैनल से बात करते हुए किशोर अपने रुख पर कायम रहे कि पश्चिम बंगाल में भाजपा जबर्दस्त ताकत है। किशोर ने कहा कि वे भाजपा द्वारा व्यापक प्रचार कर जीतने का दावा करने के बावजूद राज्य में तृणमूल कांग्रेस की जीत के प्रति आश्वस्त थे। उन्होंने कहा कि परिणाम एकतरफा लग सकता है लेकिन यह कड़ा मुकाबला था। भाजपा जबर्दस्त ताकत थी और आगे भी रहेगी।

किशोर ने पिछले साल दिसंबर में ट्वीट किया था कि '...हकीकत में भाजपा पश्चिम बंगाल में दहाई का आंकड़ा पार करने के लिए संघर्ष करेगी। किशोर ने कहा था कि अगर भाजपा ने बेहतर प्रदर्शन किया तो मैं यह जगह खाली कर दूंगा।' (भाषा)



और भी पढ़ें :