महाभारत के युद्ध में जीवित बचे योद्धा...

युयुत्सु : महाराज धृतराष्ट्र के एक पुत्र युयुत्सु ने पांडवों की ओर से लड़ाई की थी। वह इसलिए कि युयुत्सु एक दासीपुत्र थे। महाभारत महाकाव्य में 'युयुत्सु' राजा धृतराष्ट्र के वेश्या से उत्पन्न पुत्र थे इसीलिए उन्हें उचित सम्मान नहीं मिलता था।


महाभारत युद्ध से पहले भीष्म पितामह ने सभी योद्धाओं को कहा कि अब युद्ध शुरू होने वाला है इस समय जो भी योद्धा अपना खेमा बदलना चाहे वह स्वतंत्र है कि वह जिसकी तरफ से भी चाहे युद्ध करे।

इस घोषणा के बाद युयुत्सु डंका बजाते हुए कौरव दल को छोड़ पांडवों के खेमे में चले गए। इस तरह महाभारत युद्ध में सभी कौरव मारे गए। एक मात्र युयुत्सु ही जीवित बचा था। माना जाता है कि युयुत्सु के वंशज आज भी मौजूद हैं।

अगले पन्ने पर पांचवां योद्धा...




और भी पढ़ें :