ब्रह्मांड में कौन किससे बड़ी शक्ति है?

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
पेड़-पौधे : हिन्दू धर्म मानता है कि पेड़ पौधे में भी जीवन शक्ति होती है। यह ऐसी आत्माओं का शरीर है जो अपने विकासक्रम में पत्थर जैसे अन्य निर्जिव दिखने वाले खोल से बाहर निकलकर पेड़ या पौधों में परिवर्तित हो गई है। यह अन्नमय कोश का हिस्सा है।
यह का दूसरा क्रम है। इससे पहले हम पत्थर या धरती को ले सकते हैं। यह चेतना के स्तर का सबसे नीचला क्रम है। सम्पूर्ण दृश्यमान जगत, ग्रह-नक्षत्र, तारे और हमारी यह पृथवि, आत्मा की प्रथम अभिव्यक्ति है।



और भी पढ़ें :