शादी के बाद रिश्तों को सहेजने के 11 'लव-मंत्र'



आमतौर पर लोग केवल शादी होने तक अपने साथी का दिल जीतने की कोशिश करते हैं और समझते हैं कि शादी ही इस कोशिश का अंत है। एक बार शादी हो गई तो जीत हो गई, लेकिन सिर्फ शादी हो जाना ही प्रेमपूर्ण व स्थाई रिश्ते की गारंटी नहीं है। शादी के रिश्ते में ताउम्र प्रेम और सामंजस्‍य बनाए रखने के लिए आप दोनों को ही लगातार कोशिश करनी होगी और इन 11 बातों पर यदि आपने एहतियात बरत लिया तो आपके रिश्ते में प्यार भी गहराते जाएगा-

1. अपने साथी की दूसरे किसी से कभी तुलना न करें। एक-दूजे पर भरपूर विश्वास करें। आपसी प्यार व आकर्षण में कमी न आने दें। प्यार में छोटे-मोटे झगड़े होते रहते हैं। उनकी उम्र यथासंभव घटाकर फिर प्रेम से एक होना ही सफल वैवाहिक जीवन का राज है।
2. प्यार में छोटे-मोटे झगड़े होते रहते हैं। उनकी उम्र यथासंभव घटाकर फिर प्रेम से एक होना ही सफल वैवाहिक जीवन का राज है। इसे याद रखें।

3. कभी-कभी स्वयं की गलती मानने का बड़प्पन भी दिखाएंं। एक-दूसरे के दोषों को नजरअंदाज करना भी सीखें।

4. प्रेम को सर्वोपरि समझ उस पर किसी चीज को हावी न होने दें।

5. पति या पत्नी से नहीं, संपूर्ण परिवार से जुड़ने का मन बनाएंं।

6. यदि संभव हो तो दूसरे की आदतों व व्यवहार से समझौता करने की कोशिश करें।

7. अपने साथी के गुणों की कद्र करें। छोटे-छोटे कार्यों की प्रशंसा कर प्रोत्साहन बढ़ाएंं।

8. हर समस्या का समाधान चर्चा से ढूंंढें।

9. एक-दूसरे से व्यर्थ की अपेक्षा कम करें।

10. आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए इच्छा व आकांक्षाओं को सीमित रखें।

11. हर बात में एक-दूसरे की राय लेना व समान महत्व देकर निर्णय लेने की कोशिश करें।




और भी पढ़ें :