किसानों के आंदोलन को नैतिक समर्थन देने के लिए जल्लीकट्टू के कार्यक्रम में शामिल होंगे राहुल

Last Updated: बुधवार, 13 जनवरी 2021 (00:07 IST)
चेन्नई। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी 14 जनवरी को पोंगल के दिन तमिलनाडु का दौरा करेंगे, जहां वे 'जल्लीकट्टू' से जुड़े कार्यक्रम में शामिल होंगे। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष केएस अलागिरी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। 'जल्लीकट्टू' तमिलनाडु के ग्रामीण इलाक़ों का एक परंपरागत खेल है, जो पोंगल त्योहार पर आयोजित किया जाता है। इसमें लोग बैलों को पकड़ने एवं उन्हें काबू करने की कोशिश करते हैं।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि राहुल गांधी मदुरै जिले के अवनीपुरम में 'जल्लीकट्टू' कार्यक्रम के साक्षी बनेंगे और कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों को अपना नैतिक समर्थन देंगे। अलागिरी ने कहा कि बैल किसानों का प्रतीक हैं और उनकी जीविका का हिस्सा हैं। उनके मुताबिक राहुल गांधी का दौरा किसानों और समृद्ध तमिल संस्कृति को सम्मान देने के लिए है।
अलागिरी ने यह भी कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष इस दौरे पर किसी चुनाव प्रचार के कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे। इस साल अप्रैल-मई में तमिलनाडु विधानसभा का चुनाव होना है। उन्होंने दावा किया कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी और उनकी पार्टी अन्नाद्रमुक ने तीनों कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार का समर्थन किया तथा इसके अलावा राज्य के किसी दूसरे दल ने इनका समर्थन नहीं किया।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का यह भी कहना था कि राहुल गांधी का इस बार द्रमुक के नेता एमके स्टालिन या किसी अन्य नेता से मुलाकात का कार्यक्रम नहीं है। उन्होंने कहा कि इस महीने के आखिर में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष पश्चिमी तमिलनाडु का दौरा कर सकते हैं और उस दौरान उनके सहयोगी दलों के नेताओं से मुलाकात की संभावना है। अलागिरी ने यह भी बताया कि विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी
वाद्रा और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं को आमंत्रित किया जाएगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :