आज से गुप्त नवरात्रि शुरू, 9 देवियों के 9 मंत्र, 9 प्रसाद, 9 रंग और 9 उपाय

Chaitra Navratri 2022
 
गुरुवार, 30 जून से आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि (Ashadha Gupt Navratri 2022) का पर्व शुरू हो गया है। इन दिनों नवदुर्गा और उनके विभिन्न स्वरूपों की आराधना की जा‍ती है। इन 9 दिनों तक पूरे मन से देवी आराधना करने, उनके जाप तथा उन्हीं के प्रिय वस्त्रों को धारण करने से जीवन में शुभता आती है।

इन दिनों देवी मां अलग-अलग प्रसाद या भोग अर्पित किया जाता है। साथ ही इन दिनों खास कुछ उपाय करने मात्र से माता खुशहाल जीवन का वरदान देती हैं। आइए जानें गुप्त नवरात्रि के नौ दिनों में कौन-सा मंत्र जपें, किस रंग के कपड़े पहनें, माता को कौन-सा भोग लगाएं और 9 खास उपाय भी- Gupt Navratri Special


9 देवियों के 9 मंत्र : Navratri devi 9 mantra

1. शैलपुत्री- ह्रीं शिवायै नम:।
2. ब्रह्मचारिणी- ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:।

3. चन्द्रघंटा- ऐं श्रीं शक्तयै नम:।
4. कूष्मांडा- ऐं ह्री देव्यै नम:।
5. स्कंदमाता- ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:।
6. कात्यायनी- क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:।
7. कालरात्रि - क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:।
8. महागौरी- श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:।
9. सिद्धिदात्री-
ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:।

9 रंग : 9 Colours

1. पीला रंग
2. हरा रंग
3. हल्का भूरा रंग
4. संतरी रंग
5. सफेद रंग
6. लाल रंग
7. नीला रंग
8. गुलाबी रंग
9. बैंगनी रंग।

9 प्रसाद / भोग : 9 Prasad/ Bhog

1. गाय का घी
2. शकर
3. दूध
4. मालपुए
5. केला
6. शहद
7. गुड़
8. हलवा
9. खीर

9 उपाय : Gupt Navratri ke Upay

1. गुप्त नवरात्रि में 9 दिन हनुमान जी को पान का बीड़ा अर्पित करें।
2. इन दिनों अगर अखंड दीपक नहीं जला पा रहे हैं तो सुबह शाम घी या तेल का दीपक जलाना न भूलें। दीपक में 4 लौंग डाल दें।


3. 5 प्रकार के सूखे मेवे लाल चुनरी में रखकर माता रानी को अर्पित करें।

4. देवी मंदिर में लाल रंग की ध्वजा, पताका अवश्य चढ़ाएं।

5. देवी मां को ताजे पान के पत्ते पर सुपारी और सिक्के रखकर अर्पित करें।

6. देवी दुर्गा को 7 इलायची और मिश्री का भोग लगाएं।
7. मखाने के साथ सिक्के मिलाकर देवी को अर्पित करें और फिर उसे गरीबों में बांट दें।


8. छोटे पर्स में दक्षिणा रखकर लाल रंग के किसी भी गिफ्ट के साथ छोटी कन्याओं को भेंट दें।

9. नवरात्रि के दौरान अपने घर में सोना या चांदी की कोई भी शुभ सामग्री लाकर देवी दुर्गा के चरणों में रखकर पूजन करें और अंतिम दिन गुलाबी रेशमी कपड़े में बांधकर तिजोरी में रख दें।




और भी पढ़ें :