Ashadh Gupt Navratri 2022: गुरुवार से आषाढ़ गुप्त नवरात्रि, आजमाएं ये 5 छोटे-छोटे उपाय

Gupt Navratri 2022
30 जून 2022, गुरुवार से आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri 2022) की शुरुआत हो रही है। यह नवरात्रि संत और साधकों के लिए विशेष मानी गई

हैं। गुप्त नवरात्रि को साधना की नवरात्रि कहा गया है। यह नवरात्रि खास तरह की पूजा और साधना का पर्व मानी जाती है। इन दिनों की गई विशेष पूजा से दुख-संकटों से मुक्ति मिलती है। इस नवरात्रि में त्रिपुर भैरवी, धूमावती, काली, तारा देवी, त्रिपुरा सुंदरी, भुवनेश्वरी, छिन्नमस्ता, मातंगी और कमला देवी की पूजा की जाती है।

नवरात्रि दुर्गा देवी की शक्ति और भक्ति का पर्व माना जाता है। यह एक शुभ पर्व है जो जीवन को सुखमय बनाता है। इन दिनों किए गए खास उपायों से जीवन में तरक्की, खुशहाली के कई रास्त‍े खुलते हैं। इस बार नवरात्रि 30 जून से प्रारंभ होकर 9 जुलाई तक जारी रहेगी।

यहां जानिए इस नवरात्रि के करने योग्य 5 खास उपाय-Gupt Navratri ke Upay


1. देवी मंदिर में लाल रंग की ध्वजा (पताका, परचम, झंडा) किसी भी दिन जाकर चढ़ाएं।


2. नवरात्रि के दिनों में घर में सोना या चांदी की कोई शुभ सामग्री जैसे- स्वास्तिक, ॐ, श्री, हाथी, कलश, दीया, गरूड़ घंटी, पात्र, कमल, श्रीयंत्र, आचमनी, मुकुट, त्रिशूल आदि इनमें से कोई भी सामग्री खरीद कर घर ले आएं और माता के चरणों में रखरक प्रतिदिन इसकी पूजा करें। नवरात्रि के अंतिम दिन उस सामग्री को गुलाबी रेशमी कपड़े में बांधकर तिजोरी या धन वाले स्थान पर रख दें। इस उपाय से आपके धन में आश्चर्यजनक रूप से वृद्धि होगी।
3. देवी मां को ताजे पान के पत्ते पर सुपारी और सिक्के रखकर समर्पित करें।

4. नवरात्रि के दिनों में हर रोज बजरंग बली को पान का बीड़ा अर्पित करें तथा माता रानी को 5 प्रकार के सूखे मेवे लाल चुनरी में रखकर अर्पित करें।

5. नवरात्रि के नौ दिनों में अगर अखंड दीया नहीं जला पा रहे हैं तो सुबह-सायं 4 लौंग डाल कर घी अथवा तेल का दीपक जलाना न भूलें।






और भी पढ़ें :