चिदंबरम बोले, उमर और महबूबा पर PSA पीएसए की क्रूर कार्रवाई से हैरान हूं

पुनः संशोधित शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2020 (10:45 IST)
नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व गृहमंत्री ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों के खिलाफ जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत किए जाने की आलोचना करते हुए शुक्रवार को कहा कि बिना किसी आरोप के करना लोकतंत्र में एक घटिया कदम है।
ALSO READ:
चिदंबरम बोले, सत्ता में बैठे लोग असली 'टुकड़े-टुकड़े गैंग'
उन्होंने ट्वीट किया कि उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और अन्य के खिलाफ की क्रूर कार्रवाई से हैरान हूं। आरोपों के बिना किसी पर कार्रवाई लोकतंत्र में सबसे घटिया कदम है।

चिदंबरम ने सवाल किया कि जब अन्यायपूर्ण कानून पारित किए जाते हैं या अन्यायपूर्ण कानून लागू किए जाते हैं, तो लोगों के पास शांति से विरोध करने के अलावा क्या विकल्प होता है?
दरअसल, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की 6 महीने की एहतियातन हिरासत पूरी होने से महज कुछ घंटे पहले गुरुवार (6 फरवरी) को उनके खिलाफ जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत मामला दर्ज किया गया।

इससे पहले दिन में नेशनल कॉन्फ्रेंस के महासचिव और पूर्व मंत्री अली मोहम्मद सागर और पीडीपी के वरिष्ठ नेता सरताज मदनी पर भी पीएसए लगाया गया।


और भी पढ़ें :