1. लाइफ स्‍टाइल
  2. साहित्य
  3. मेरा ब्लॉग
  4. Negative Thoughts

नकारात्मक विचारों को अस्वीकृत करें...

नकारात्मक विचार हमारे मन के अंदर की ही भावनाएं हैं, जो हमें एवं दूसरों को नुकसान पहुंचाती हैं। मस्तिष्क में भय मनुष्य को बहुत छोटा बना देता है एवं वह स्वयं को असुरक्षित महसूस करता है। नकारात्मक विचार स्वयं एवं दूसरों को नुकसान पहुंचाने की गतिविधियों से प्रारंभ होते हैं।


 
 
हमारे मष्तिष्क में विचार मुख्यत: 3 भागों से आते हैं- 1. अपने एवं दूसरों के कर्मों के विचार, 2. स्वत: की इच्छा के विचार, 3. स्वयं को असुरक्षित समझने के विचार। नकारात्मक विचारों का मुख्य कारण हमारी मानसिक स्थिति होती है। हम अक्सर स्थितियों के प्रति धारणा बनाकर अपने विचार उत्पन्न करते हैं। ऐसे विचार हमेशा हमारे विरुद्ध जाते हैं।
 
किसी एक घटना, व्यक्ति या स्थिति को आधार मानकर हम उसी आधार पर पूर्वाग्रह बना लेते हैं। ऐसे विचारों के साथ 'हमेशा मेरे साथ ही क्यों होता है?' 'मैं कभी सही काम नहीं करता', 'मैं हमेशा अकेला रहूंगा' इस प्रकार के वाक्य जुड़े रहते हैं। नकारात्मक विचार और भाव दिमाग को खास निर्णय लेने के लिए उकसाते हैं। ये विचार मन पर कब्जा करके दूसरे विचारों को आने से रोक देते हैं। हम केवल खुद को बचाने पर फोकस होकर फैसला लेने लगते हैं।
 
नकारात्मक विचार के हावी होने के कारण हम संकट के समय जान नहीं पाते कि स्थितियां उतनी बुरी नहीं हैं जितनी दिख रही हैं। संकट को पहचानने या उससे बचने के लिए नकारात्मक विचार जरूरी होते हैं, जो कि हमारे जैविक विकास क्रम का ही हिस्सा हैं। 4 बातें हमारे शरीर और हमारे जीवन में नकारात्मक विचार उत्पन्न करती हैं। ये भावनाएं दूसरों पर दोषारोपण करने और अपने अनुभवों के लिए स्वयं को जिम्मेदार न ठहराने से आती हैं।
 
यदि हम सभी अपने जीवन में हर बात के लिए जिम्मेदार हैं तो हम किसी पर दोषारोपण नहीं कर सकते। बाहर जो भी घट रहा है, वह केवल हमारे आंतरिक विचारों का एक आईना है। हमारे विश्वास ही लोगों को हमसे किसी प्रकार का व्यवहार करने के लिए आमंत्रित करते हैं।
 
यदि आप खुद को यह कहता पाएं, 'हर कोई मेरे साथ ऐसा करता है, मेरी आलोचना करता है, कभी मेरी मदद नहीं करता, मुझे पायदान की तरह इस्तेमाल करता है, मेरे साथ दुर्व्यवहार करता है,' तो यह आपकी प्रवृत्ति है। आपके अंदर ऐसे विचार हैं, जो ऐसा व्यवहार प्रदर्शित करने के लिए लोगों को आकर्षित करते हैं। 

 

 

नकारात्मक सोच के लक्षण 
 
नकारात्मक सोच स्पष्टत: व्यवहार में झलकती है। इसके कुछ व्यावहारिक एवं शारीरिक लक्षण निम्न हैं-
 
1. अपने एवं दूसरों कार्यों, व्यवहारों से हमेशा असंतुष्ट रहना तथा अपने कार्यों से लगाव न रहना। 
 
2. हमेशा ग्लानि में रहना कि मैं कुछ नहीं कर सकता। 
 
3. दूसरों से आदर की अपेक्षा रखना किंतु दूसरों को आदर न देना। 
 
4. छोटी-छोटी अपेक्षाएं पूरी न होने पर स्वयं को अपमानित महसूस करना। 
 
5. हर व्यक्ति एवं वस्तु का नकारात्मक पहलु देखना। 
 
6. व्यक्ति एवं वस्तुओं की हमेशा बुराई करना। 
 
7. हर किसी को प्रभावित करने की कोशिश करना। 
 
8. अच्छे व्यक्ति या वस्तु की प्रशंसा से कतराना। 
 
9. अपने से ज्यादा योग्य व्यक्ति को देखकर कतराना, उसकी बुराई करना एवं अपने आपको असुरक्षित महसूस करना। 
 
10. अपने अभिमान को स्वाभिमान बताकर दंभोक्ति का प्रदर्शन करना। 
 
11. अपनी आलोचना सहन न कर पाना एवं सही आलोचना पर भी लोगों से झगड़ जाना। 
 
12. विश्व की हर वस्तु में गलती निकालना।
 
13. अच्छे परिणामों के लिए खुद को श्रेय देना एवं गलत परिणामों के लिए ईश्वर या दूसरों को दोष देना। 


 

अपनी नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए हमें सकारात्मक विचार कंपनों को अपने अंदर समाहित कर उन्हें आचरण में उतारना होगा। इस व्यवहार को आचरण में लाने के 3 स्तर हैं। 
 
1. जिम्मेदारी लेनी होगी- जब हम सोचते हैं कि हर विरुद्ध परिणाम किसी दूसरे की गलती है तो हम नकारात्मक होते हैं। जब हम यह स्वीकार कर लेंगे कि हर चीज हमारे अंदर से ही उत्पन्न होती है एवं सभी अच्छे-बुरे परिणामों का जन्म हमारे ही कर्मों से हुआ है, तब हमारे अंदर जिम्मेदारी का अहसास जागेगा, जो कि एक सकारात्मक विचार है। 
 
2. नकारात्मक विचारों को अस्वीकृत करना होगा- इसके लिए बहुत अभ्यास की आवश्यकता है। इसके लिए समर्पण, सही निर्णय एवं वस्तुओं को सही दृष्टिकोण से देखने की आवश्यकता है। हमेशा अपने नकारात्मक व्यवहार एवं सोच पर नजर रखनी होगी और जब भी यह नकारात्मकता हमारे व्यवहार में झलके, हमें इसे तुरंत बदलना होगा। 
 
3. सकारात्मक संवेदनाओं को महसूस करिए- नकारात्मक ऊर्जा से निजात पाने के लिए हमें अपने अंदर सकारात्मक संवेदनाओं को जगह देनी पड़ेगी। पुरानी परिस्थितियों के बारे में सोचना छोड़ना होगा एवं नए विचारों को परखकर अपने व्यवहार में लाना होगा। 
 
कोई भी अपने अंदर नकारात्मक विचारों को नहीं पनपने देना चाहता है किंतु हमारी पूर्व परिस्थितियां एवं अनुभव इसे हमारे अंदर खींच लाते हैं। अगर हम इन परिस्थितियों एवं बुरे अनुभवों को अपने अंदर से निकालकर अपने जीवन की घटनाओं पर नियंत्रण करना सीख लें तो सकारात्मक ऊर्जा का झरना हमारे अंदर स्रावित होने लगेगा एवं सारी नकारात्मक ऊर्जा को बहाकर बाहर कर देगा। 

 
नकारात्मक विचारों से छुटकारा पाने के प्रभावशाली तरीके निम्न हैं-
 
1. वस्तुओं के प्रति कृतज्ञ बनना सीखिए।
 
2. स्वयं पर हंसना सीखिए। 
 
3. दूसरों की सहायता बिना अपेक्षा के करना सीखिए। 
 
4. सकारात्मक सोच वाले व्यक्तियों को दोस्त बनाएं। 
 
5. समाज उपयोगी कार्यों को करने की कोशिश करें। 
 
6. अच्छे एवं बुरे दोनों परिणामों की जिम्मेवारी लेना सीखें। 
 
नकारात्मक भावों से रहित मन की स्थिति ही निर्वाण या मोक्ष की ओर ले जाती है। अंत का अर्थ चेतना का अंत नहीं, वरन नकारात्मक भावों का अंत होता है। वस्तुत: हमारा शत्रु हमारे अंदर है। सभी नकारात्मक व्यवहार जैसे क्रोध, घृणा, ईर्ष्या, आसक्ति, लगाव, तृष्णा आदि नकारात्मक भाव मन को अशांत करते हैं। कोई भी बाहरी शत्रु कितना भी ताकतवर क्यों न हो, यदि हमारा मन शांत है तो वह हमारा नुकसान नहीं कर सकता है। और मन तभी शांत होता है, जब हमारे भीतर सकारात्मक विचारों का समन्वय हो।
 
किसी दार्शनिक ने कहा है कि 'अपने विचारों का परीक्षण करो, क्योंकि वो शब्द बनते हैं। अपने शब्दों का परीक्षण करो, क्योंकि वो आपके कर्म बनने वाले हैं। अपने कर्मों का परीक्षण करो, क्योंकि वो आपकी आदत बनते हैं। अपनी आदतों का परीक्षण करो, क्योंकि वो आपका चरित्र बनते हैं एवं अपने चरित्र का परीक्षण करो, क्योंकि उससे आपके भाग्य का निर्माण होता है।'


ये भी पढ़ें
ये जानने के बाद आप कभी नेलपॉलिश नहीं लगाएंगे