कुंडली में शुक्र की स्थिति से जानिए कैसा होगा आपका व्यक्तित्व


जन्मपत्रिका के बारह घर और शुक्र बताएगा कैसे हैं आप... 
 
 
ज्योतिष शास्त्र में शुक्र ग्रह की अपनी खास पहचान है। वह स्त्री, प्रणय, वैभव, विलास, विवाह आदि का कारक ग्रह है। जिसके लग्न स्थान में शुक्र हो वह अत्यंत सुंदर होता है। ऐसा व्यक्ति दीर्घायु, स्वस्थ, सुखी, मृदुभाषी, विद्वान तथा कामी होता है। जन्म के समय शुक्र ग्रह का 12 भावों में फल इस प्रकार होता है :- >  
1. लग्न में शुक्र हो तो जातक दीर्घायु सुंदर, ऐश्वर्यवान, मधुर भाषी, भोगी, विलासी, प्रवासी और विद्वान होता है। >  

 



और भी पढ़ें :