IPL के नए खिलाड़ी निराश, लेकिन उन्हें सब्र और अभ्यास का सहारा

Last Updated: सोमवार, 30 मार्च 2020 (18:24 IST)
नई दिल्ली, मुंबई, चेन्नई। कोविड-19 महामारी के कारण (आईपीएल) के 15 अप्रैल तक टलने से टूर्नामेंट में पहली बार खेलने के लिए तैयार युवा खिलाड़ी निराश है लेकिन धैर्य और अभ्यास के साथ वे खुद को प्रेरित कर रहे है।

बंगाल के युवा हरफनमौला शाहबाज अहमद ने विराट कोहली और से पूछने के लिए सवालों की सूची को तैयार कर रखी है। लेकिन देश में जिस तरह से के संक्रमण के मामले बढ़ रहे है, रॉयल चैलेंजर बैंगलोर के इस खिलाड़ी का इंतजार और लंबा हो सकता है।

भारतीय अंडर-19 टीम के सितारे और कार्तिक त्यागी की भी यही स्थिति है जिन्होंने टूर्नामेंट से पहले काफी सुर्खियां बटोरी। अब उन्हें कम से कम 15 अप्रैल तक का इंतजार करना होगा। तमिलनाडु के लंबा होता जा रहा लेकिन इनका मानना है कि यह समय भी गुजर जाएगा।

इस साल रणजी ट्रॉफी में दमदार प्रदर्शन करने वाले शाहबाज ने कहा, ‘खिलाड़ियों की बोली में जब आरसीबी ने मुझे चुना तो मेरे लिए वह सपना सच होने जैसा था कि मैं भारतीय कप्तान और एबी डिविलियर्स जैसे दिग्गजों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करूंगा।

उन्होंने कहा, ‘मुझे नेट्स पर उन्हें गेंदबाजी करने का मौका मिलता और मैं उनसे सलाह लेता। लेकिन हम सब जानते हैं कि स्थिति कैसी है। हमें संकट के खत्म होने का इंतजार करना है। हरियाणा के मेवात में रहने वाले 25 साल के इस खिलाड़ी ने कहा कि, ‘मैं खुद को फिट रखने के लिए घर में ही शारीरिक अभ्यास कर रहा हूं।’

अपनी गति से सब को प्रभावित करने वाले यूपी के तेज गेंदबाज त्यागी के लिए अच्छी बात यह है कि हापुड़ के उनके घर में प्रशिक्षिण करने के लिए पर्याप्त जगह है क्योंकि उनके पिता ने घर में ही पिच तैयार की है और नेट लगाया है।

इस युवा खिलाड़ी ने कहा, ‘18 साल की उम्र में मैं वैसी बातों को नहीं सोच सकता जिस पर किसी का नियंत्रण नहीं है। मेरा काम अभ्यास करना और तैयार रहना है। मैं हर दिन दो घंटे और सुबह दो घंटे शाम में प्रशिक्षण करता हूं।’

उन्होंने कहा, ‘हां, मेरे घर के पीछे के हिस्से में पिच है। इसलिए मैं एक विकेट लगाकर गेंदबाजी अभ्यास करने में सक्षम हूं। इसके साथ थोड़ा शारीरिक प्रशिक्षण भी कर रहा जो हमारे हमें हमारे ट्रेनर आनंद दाते ने दिया है।’

त्यागी के अंडर-19 टीम के साथी और दक्षिण अफ्रीका में हुए विश्व कप के स्टार खिलाड़ी जायसवाल ने कहा कि वह अपने पहले को लेकर काफी रोमांचित थे लेकिन वास्तविकता यहीं है कि अभी इंसानी जिंदगी को बचाना ज्यादा जरूरी है।
उन्होंने कहा, ‘मैं राजस्थान रॉयल्स के साथ अपने पहले आईपीएल के लिए काफी उत्साहित था। मैं अपने कोच ज्वाला सर और टीम शिविरों में भी अपनी तैयारी कर रहा था। लेकिन हम इंसानों की तरह आशावादी रहना चाहिए।’

उन्होने कहा, 'हमारी पहली प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि हम खुद को स्वस्थ और सुरक्षित रखें और उन सभी के लिए प्रार्थना करें जो वायरस से पीड़ित हैं।' घरेलू क्रिकेट में तमिलनाडु की टीम में जगह बनाने के लिए संघर्ष कर रहे चक्रवर्ती के लिए खुद को साबित करने का आईपीएल सही मंच है।
कोलकाता नाइट राइडर्स के से चार करोड़ रुपए की बोली हासिल करने वाले इस खिलाड़ी ने कहा, ‘यह बहुत दुखद है कि दुनिया में ठहराव आ गया है। उम्मीद है, हम सभी एक साथ लड़ेंगे और वायरस को हराएंगे। मैं इस बात से चिंतित हूँ कि आईपीएल कब होगा, क्योंकि मेरे लिए कई चीजें इस पर निर्भर करती है।’




और भी पढ़ें :