त्योहारी मांग बढ़ने से तेल-तिलहन की कीमतों में हुआ सुधार

पुनः संशोधित रविवार, 8 अगस्त 2021 (19:21 IST)
नई दिल्ली। विदेशी बाजारों में सामान्य कारोबारी रुख के बीच रहित खल की भारी स्थानीय और निर्यात मांग से दिल्ली तेल-में बीते सप्ताह सरसों, सोयाबीन दाना, सोयाबीन लूज, मूंगफली दाना (सभी तिलहन फसल) के भाव लाभ दर्शाते बंद हुए, जबकि मांग होने के बावजूद सामान्य घट-बढ़ वाले कारोबार के दौरान ज्यादातर खाद्य तेलों के भाव घाटे के साथ या पूर्ववत बंद हुए।
बाजार के जानकार सूत्रों ने कहा कि बीते सप्ताह विदेशों के अलावा ज्यादातर स्थानीय स्तर पर सरसों, मूंगफली और सोयाबीन सहित विभिन्न फसलों के तेल रहित खल (डीओसी) की भारी स्थानीय मांग होने से सरसों, मूंगफली, सोयाबीन दाना एवं सोयाबीन लूज जैसी तिलहन फसलों में पर्याप्त सुधार देखा गया।

दूसरी ओर मांग होने के बावजूद सामान्य घट-बढ़ वाले कारोबार के दौरान अपने बीते सप्ताहांत के मुकाबले पिछले सप्ताहांत सरसों दादरी, सरसों पक्की एवं कच्ची घानी, सोयाबीन दिल्ली, इंदौर एवं डीगम, मूंगफली गुजरात, मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड जैसे खाद्य तेलों में गिरावट आई।

इस साल गत वर्ष के मुकाबले डीओसी निर्यात में लगभग 300 प्रतिशत की वृद्धि होने से डीओसी की कमी है। घरेलू स्तर पर भी इसकी मांग काफी है जिससे सभी प्रमुख तिलहन कीमतों में सुधार आया। सूत्रों ने कहा कि पिछले सप्ताह कांडला बंदरगाह पर सोयाबीन डीगम का भाव 1,352 डॉलर प्रति टन का था जो अब घटकर 1,302 डॉलर प्रति टन रह गया जिसकी वजह से बाकी तेल कीमतों में भी गिरावट का रुख कायम हो गया, जबकि मलेशिया एक्सचेंज में सुधार रहने और मांग होने के कारण सीपीओ तेल के भाव भी लाभ के साथ बंद हुए। बीते सप्ताह बिनौला तेल कीमतों में गिरावट रही।

सूत्रों ने कहा कि सामान्य घट-बढ़ वाले कारोबार के दौरान मांग होने के बावजूद समीक्षाधीन सप्ताहांत में सरसों दादरी के भाव पूर्ववत रहे जबकि सरसों पक्की एवं कच्ची घानी तेल के भाव मामूली गिरावट दर्शाते बंद हुए। उन्होंने कहा कि पामोलीन तेल की मांग कमजोर रहने से समीक्षाधीन सप्ताहांत में पामोलीन दिल्ली की कीमत में गिरावट आई जबकि पामोलीन कांडला तेल पूर्ववत रहा।

बाजार सूत्रों ने कहा कि देश में सरसों की रोजाना आवक लगभग एक लाख 60 हजार से दो लाख बोरी की है जबकि खपत के लिए रोजाना मांग लगभग 3.5 लाख बोरी की है। इसके अलावा इस बार किसानों को छोड़कर सहकारी संस्थाओं और व्यापारियों के पास स्टॉक नहीं है। ऐसे में आगामी सर्दियों और त्योहारी मांग का इंतजाम करने के लिए सहकारी संस्था हाफेड और नाफेड को अभी से बाजार भाव पर सरसों की खरीद कर स्टॉक बना लेना चाहिए।

उन्होंने कहा कि पिछले साल इन सहकारी संस्थाओं के पास अपने पहले के साल के बचे हुए स्टॉक को मिलाकर लगभग 20-22 लाख टन सरसों का स्टॉक था और ए संस्थाएं रोजाना 2-2.5 लाख बोरी सरसों बेच रही थीं। लेकिन इस बार सरसों की सर्दियों और त्योहारी मांग को तो आयात से भी पूरा नहीं किया जा सकता, क्योंकि इसकी पैदावार और कहीं नहीं होती और इसका कोई विकल्प भी नहीं है।

बाजार सूत्रों ने कहा कि सोयाबीन दाने की कमी की वजह से सोयाबीन की 80-85 प्रतिशत पेराई मिलें बंद हो चुकी हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य की मांग को देखते हुए सरकार को सरसों का स्टॉक अभी से बना लेना चाहिए। बीते सप्ताह सरसों दाने का भाव 75 रुपए का लाभ दर्शाता 7,850-7,900 रुपए प्रति क्विन्टल हो गया, जो पिछले सप्ताहांत 7,775-7,825 रुपए प्रति क्विंटल था। सरसों दादरी तेल का भाव 15,550 रुपए प्रति क्विन्टल पर अपरिवर्तित बना रहा।

सरसों पक्की घानी और कच्ची घानी टिनों के भाव समीक्षाधीन सप्ताहांत में क्रमश: 5-5 रुपए की मामूली गिरावट के साथ क्रमश: 2,525-2,575 रुपए और 2,610-2,720 रुपए प्रति टिन पर बंद हुए। सोयाबीन के तेल रहित खल (डीओसी) की भारी स्थानीय और निर्यात मांग के कारण सोयाबीन दाना और लूज के भाव क्रमश: 150 रुपए और 225 रुपए का सुधार दर्शाते क्रमश: 10,100-10,200 रुपए और 10,000-10,050 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुए।
ALSO READ:

समुद्री सुरक्षा पर UNSC की हाईलेवल डिबेट की अध्यक्षता करेंगे PM मोदी
दूसरी ओर कांडला बंदरगाह पर सोयाबीन डीगम का भाव पिछले सप्ताह के 1,350 डॉलर प्रति टन से घटाकर 1,302 डॉलर प्रति टन किए जाने से सोयाबीन तेल कीमतों में गिरावट रही। समीक्षाधीन सप्ताहांत में सोयाबीन दिल्ली (रिफाइंड), सोयाबीन इंदौर और सोयाबीन डीगम के भाव क्रमश: 250 रुपए, 170 रुपए और 300 रुपए की गिरावट के साथ क्रमश: 14,900 रुपए, 14,880 रुपए और 13,450 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुए।
मूंगफली डीओसी की भारी स्थानीय मांग निकलने से समीक्षाधीन सप्ताहांत में मूंगफली दाना 50 रुपए के सुधार के साथ 6,295-6,440 रुपए पर बंद हुआ, जबकि मूंगफली गुजरात 200 रुपए की गिरावट के साथ 14,250 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुआ। मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड का भाव 40 रुपए की हानि के साथ 2,195-2,325 रुपए प्रति टिन पर बंद हुआ।

समीक्षाधीन सप्ताहांत में कच्चे पाम तेल (सीपीओ) का भाव 50 रुपए के सुधार के साथ 11,800 रुपए क्विन्टल पर बंद हुआ। जबकि मांग कमजोर होने से पामोलीन दिल्ली का भाव 80 रुपए की हानि दर्शाता 13,500 रुपए प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। पामोलीन कांडला के भाव पूर्व सप्ताहांत के स्तर पर ही बने रहे।

पिछले सप्ताहांत के मुकाबले जहां बिनौला तेल कीमत 300 रुपए की गिरावट के साथ 14,300 रुपए क्विन्टल रह गया, वहीं तिल मिल डिलिवरी का भाव 100 रुपए सुधरकर 15,100-17,600 रुपए प्रति क्विन्टल हो गया।(भाषा)



और भी पढ़ें :