शुक्रवार, 12 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. लाइफ स्‍टाइल
  2. नन्ही दुनिया
  3. कविता
  4. poem on school day
Last Updated : शुक्रवार, 21 जून 2024 (13:50 IST)

बाल गीत : बोझ करो कम बस्ते का

kids poem
अगर कहीं चिड़िया के पापा,
मम्मी उसे भेजते शाला।
और टांग देते कंधे पर,
उसके, बस्ता सुंदर काला।
 
तो उनकी यह नन्ही बिटिया ,
पढ़ती नए-नए नित पाठ।
लेकिन थक जाने के कारण,
पढ़ती सोलह दूनी आठ।
 
वज़नदार बस्ता है उसका,
नहीं उठा पाती है बोझ।
गिरने लगी रोज गश खाकर,
चल पाती वह कितने रोज!
 
अपनी सखियों के संग मिलकर,
उसने कर दी है हड़ताल।
'बोझ करो कम, अब बस्ते का',
खबर भेज दी है भोपाल।
 
(यहां पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)