मजेदार बाल कविता : मुन्नी ने फूल गिने

Flowers
किरणों के गमछे से,
सबके सब पूंछने हैं।
पर कोहरे के,
दाग लगे जितने हैं।
मंद पवन चलना है,
पतझड़ भी होना है।
गेहूं की बाली को,
बन जाना सोना है।

सूख गए पापड़ से,
पत्ते जो चिकने थे।
आमों की डालों पर,
बौर महक जाना है।

धरती को तीसी के,
रंग में रंग जाना है
मुन्नी ने नीले ये,
फूल गिने कितने थे।

(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :