तीन तलाक पर कविता : तीन तलाक गुनाह है...

*आखिरकार किसी ने समझी..
मेरे मन की बात...
कोई है जो समझ गया है..
नारी के जज़्बात...
*तीन की लटक रही थी...
मेरे सिर तलवार...
अब आई है हाथ में..
माझी के पतवार....

*बुर्के से शिकवा नहीं..
परम्परा है मेरी...
पारम्परिक प्रताड़ना के
खिलाफ है रणभेरी....

*स्त्री हूं मैं, गर्व मुझे है..
नहीं ये कोई गुनाह है..
आज समझ लें सभी स्वयंभू..
तीन तलाक गुनाह है...
*सायरा,आफरीन, अतिया,इशरत..
और गुलशन की जीत....
डर नहीं प्रेम दे देते मुझको...
तो तुम ही जाते जीत...।।

 

और भी पढ़ें :