कविता : एक साहित्यिक गोष्ठी का सारांश

poem lekhan
शहर के तमाम बुद्धिजीवियों
कथाकारों और कवियों ने
हिन्दुस्तान की समस्याओं
को लेकर संगोष्ठी की
मंच पर हिन्दुस्तान का
नक्शा लगा हुआ था
किसी ने बताया कि नक्शे के
इस भाग पर भुखमरी की समस्या
तो किसी ने बताया इस भाग पर
बेरोजगारी है कोई किसी हिस्से पर
हुए बलात्कार की घटना से
परेशान था तो कोई किसी का
किसी स्थान पर हुए आत्महत्या और
मानवाधिकारों के उल्लंघन से
हुआ बुरा हाल था
संगोष्ठी के बाद खानपान
और पीने का दौर चला
और बुद्धिजीवियों ने पी-पीकर
अनेक बोतलों को खाली कर
सभी समस्याओं को उन्हीं बोतलों में बंद कर दिया।
और इस बीच हिन्दुस्तान का
नक्शा अब जमीन पर गिरकर फड़फड़ा रहा था।


और भी पढ़ें :