शुक्रवार, 1 मार्च 2024
  • Webdunia Deals
  1. लाइफ स्‍टाइल
  2. साहित्य
  3. काव्य-संसार
  4. Hindi Poem On Tears
Written By

काव्य धारा : अश्रु और मैं

काव्य धारा : अश्रु और मैं - Hindi Poem On Tears
मैं और अश्रु 
इसके अलावा 
ना था कोई और
हम दोनों थे
एकांत था
बहुत खुश थे
स्पर्श का अहसास था
गुफ्तगू की हमने 
कहा हमने उनसे
क्यों चले आते हो हरदम
क्या करूं ?
तुम्हें महसूस करते हैं
लगता है जब तुम अकेले हो
हम दौड़े चले आते हैं 
हमें तुम्हारी आदत-सी हो गई
हमारे आने के बाद 
हल्केपन का अहसास होता है
दिल का भार अश्रु संग बहाते हैं
इसलिए हम चले आते हैं।
अश्रुओं की व्यथा...
है ना स्वप्न...!
- सपना पारीक 'स्वप्न'
ये भी पढ़ें
जानिए, कैसे रखें अपने कीमती गहनों की खूबसूरती बरकरार कि लगें एकदम नए जैसे