मस्त जोक : ससुराल में दामाद के खाने का मीनू पढ़कर हंसी नहीं रुकने वाली


ससुराल में दामाद के खाने का मीनू पढ़कर हंसी नहीं रूकने वाली
पहला साल
पूड़ी,
दो तरह की सब्जी,
बासमती चावल,
पनीर,
रायता,
सलाद,
लिज्जत-पापड़,
अंत में दो पीस मीठा, वो भी जबरदस्ती,
ये बोलकर कि खा लो दामाद जी कुछ नही होगा सोते समय हाजमोला या तो बंगला पत्ती वाला मीठा पान खा लेना

तीसरा साल
पूड़ी
एक सब्जी,
सोनम चावल,
आलू दम,
सलाद,
माहेश्वरी पापड़।

रात में सोते समय दो पीस बालूशाही।
पांचवां साल
रोटी,
आलू परवल की सब्जी,

चावल,
गोभी फ्राई,
खाली प्याज टमाटर की सलाद, लोकल पापड़।

रात मे सोते समय

सूजी का हलवा
सातवां साल
रोटी
आलू सोयाबीन बड़ी की सब्जी,
कुंदरू की भुजिया,
चौकोर कटी प्याज की सलाद,
अचार।

सोते समय पूछा दामाद जी दूध पियेंगे क्या ????
नौवां साल
चाय और मिक्स दाल मोठ
दे के पूछा कि खाना खावोगे क्या दामाद जी ?
तो बाजार चलो साथ कुछ सब्जी ले आई जाए
ग्यारहवां साल
नींबू की चाय
और बिस्किट
और पूछा इधर कैसे दामाद जी कोई काम था क्या इस तरफ ???
आज रुकेंगे न ?
तेरहवां साल
कैसे हो दामाद जी
जल्दी न हो तो चाय पीकर जाना...

पंद्रहवां साल
अरे दामाद बाबू आए हैं
कोई चाय पानी तो पूछ लो
सत्रहवां साल

अरेरेरेरे- - - - - - - - -
कुछ ऐसा संयोग हुआ की दामाद जी को चाय भी नहीं पूछ पाएं

उन्नीसवां साल
का हो दामाद बाबु सुना है
चाय पीना छोड़ दिया
तो कोई जरुरी भी नहीं था कि बीमार सरीर लेकर ससुराल आया जाय

फालतू में खुद भी परेशान हो और दूसरों को भी परेशान करो

अपने ऊपर ध्यान दो और

चुपचाप अपने घर में ही रहो।
आपकी शादी को कितने साल हुए हैं?



और भी पढ़ें :