रेडिमेड जूस में 'पैक' है जहर, हर हाल में रहें बचकर... बच्चों के दिमाग के लिए है बेहद घातक

फल हों या फलों का ताजा जूस, के लिए किसी अमृत से कम नहीं है। लेकिन आपके जरा से आलस या गलती के चलते ये अमृत, जहर में भी बदल सकता है। जी हां, भले ही आपको जानकर हैरानी हो, लेकिन आपकी सिर्फ एक गलती आप तक इसके फायदे पहुंचाने के बजाए सिर्फ नुकसान पहुंचा रही है, वह भी बेहद घातक नुकसान।
आपकी यह गंभीर गलती है घर पर जूस बनाने के बजाए, बाजार से खरीदना। जी हां, बाजार के ये पैकेज्ड जूस आपको और आपके परिवार को सेहतमंद बनाने की जगह आप पर खतरे की तरह मंडरा रहे हैं। ये पैकेज्ड जूस आपके और आपके बच्चों की सेहत के लिए बेहद खतरनाक है।

जानिए क्यों है खतरनाक -
दरअसल बाजार में मिलने वाले पैकेज्ड जूस, घर पर बने जूस की तुलना में बिल्कुल भी फ्रेश नहीं होते इसलिए इनमें पोषक तत्वों की कमी होती है। इसके अलावा इसके नुकसानदायक होने का सबसे बड़ा और गंभीर कारण है इसमें की मात्रा जरूरत से बेहद ज्यादा होना।

कंज्यूमर रिपोर्ट्स की एक स्टडी में यह सामने आया कि अमेरिका में बिकने वाले 45 मशहूर ब्रैंड्स के प्रॉडक्ट की जांच में कैडमियम, इनऑर्गेनिक आर्सेनिक और मरकरी या पाया गया, जो के बेहद खतरनाक है।
इसके साथ ही तकरीबन आधे से ज्यादा ब्रैंड के जूस में का स्तर अत्यधिक था, वहीं 7 प्रॉडक्ट्स में इसका स्तर इतना ज्यादा था कि अगर इसकी थोड़ी-सी भी मात्रा बच्चों के लिए बेहद खतरनाक हो सकती है।

इस स्टडी के अनुसार बच्चों और बड़ों दोनों ही के लिए पैकेज्ड जूस लेना खतरनाक है। इसका पहला कारण है- इसमें मौजूद हेवी मेटल को इससे पूरी तरह से नहीं निकाला जा सकता।

दूसरा कारण यह भी है कि इसमें जो विषैले तत्व मौजूद हैं वे मैन्युफक्चरिंग से लेकर पैकेजिंग की प्रक्रिया तक, हवा,पानी और मिट्टी के जरिए इसमें मिल चुके होते हैं, जिन्हें अलग करना नामुम्किन है।

तीसरा एक कारण इसमें मौजूद संयुक्त मेटल है, जो बच्चों की सेहत के लिए बेहद खतरनाक है। ये मेटल बच्चों पर इतना गहरा असर डालती हैं कि बच्चों का दिमागी विकास तो प्रभावित होता ही है, उनके नर्वस सिस्टम पर भी असर डालता है।

कुल मिलाकर स्टडी में यह साफ पता चलता है कि बाजार में उपलब्ध पैकेज्ड जूस, हर तरह से नुकसानदायक है और इनकी कम मात्रा भी बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए बेहद खतनाक साबित हो सकती है।

 

और भी पढ़ें :