ब्लैक कार्बन से हो सकती है असमय मौत,जानिए नई जानकारी

Last Updated: शुक्रवार, 2 जुलाई 2021 (13:50 IST)
प्रकृति के खिलाफ या उसके अनुचित कभी भी कोई भी गतिविधि करने की सजा किसी एक इंसान को नहीं मिलती है बल्कि सभी लोग को परेशानी होती है। हाल ही में एक शोध में सामने आया है कि ब्लैक कार्बन तेजी से बढ़ रहा है और मानव जाति पर इसका गंभीर असर पड़ सकता है। इस वजह से समय से पूर्व मृत्यु भी संभव है। आज भी कई लोगों की जान वायु प्रदूषण से हो रही है लेकिन अध्ययन के बाद आकलन और अधिक दुरुस्त हो गए है।  > अध्ययन के मुताबिक सिंधु –गंगा नदी के मैदानी क्षेत्र में ब्लैक कार्बन पाया जाता है। जिसका असर मानव जीवन पर होता है। लेकिन भारत में कभी इसे लेकर कोई मूल्‍यांकन नहीं किया गया।> मानव जाति की गतिविधियों के कारण ब्लैक कार्बन अधिक बढ़ रहा है। हिमालय श्रृंखला में हिमनद और बर्फ तेजी से पिघल रहा है। इसका असर तापमान पर भी पड़ रहा है और मानसून चक्र भी प्रभाव हो रहा है।

ब्लैक कार्बन के बढ़ने का कारण है जीवाश्‍म और अन्य जैव ईंधनों की वजह से उत्सर्जित बारीक कण होते हैं जिससे वायुमंडल का तापमान बढ़ता है।

ब्लैक कार्बन को लेकर कई प्रकार के शोध किए गए है अभी भी जारी है। ब्लैक कार्बन की वजह से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित हो रहा है। दक्षिण एशिया क्षेत्र के सदस्य हार्टविग शाफर के अनुसार,यह मानवीय गतिविधियों से पैदा होता है। साथ ही यह हवा में मौजूद  कणों का एक बहुत बड़ा हिस्सा है।
 




और भी पढ़ें :