जया एकादशी कब है? जानिए इस एकादशी की विशेषताएं और व्रत के 10 फायदे

पुनः संशोधित शुक्रवार, 28 जनवरी 2022 (12:53 IST)
हमें फॉलो करें
Jaya Aja Ekadashi 2022: 12 फरवरी 2022 शनिवार को जया एकादशी का व्रत रखा जाएगा। जया एकादशी को अजा और भीष्म एकादशी भी कहते हैं। यह एकादशी माघ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आती है। आओ जानते हैं इस एकादशी की विशेषता और व्रत रखने के 10 फायदे।


विशेषता :
इस दिन भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस व्रत में भगवान विष्णु की पूजा में धूप, फल, फूल, दीप, पंचामृत आदि का प्रयोग करें। इस व्रत का महत्व भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठर को बताया। श्रीकृष्ण ने व्रत के महत्व को प्रकट करने के लिए गंधर्व पुष्यवती और माल्यवान की कथा सुनाई थी।

फायदे :
1. मान्यता है कि इस एकादशी के उपवास से व्यक्ति को हर तरह के पापों से मुक्ति मिलती है।

2. जया एकादशी व्रत रखने से व्यक्ति भूत-पिशाच आदि योनियों में नहीं जाता है।

3. पुराणों के अनुसार जो व्यक्ति एकादशी करता रहता है, वह जीवन में कभी भी संकटों से नहीं घिरता।

4. इस एकादशी के व्रत को रखने से आर्धिक समस्याएं दूर होती है और धन और समृद्धि बनी रहती है।
5. ऐसा कहा जाता है कि जया एकादशी के व्रत से व्यक्ति को अग्निष्टोम यज्ञ के बराबर फल प्राप्त होता है।

6. जो कोई भी व्यक्ति जया एकादशी का व्रत रखता है उसके घर में खुशियां और सुख शांति का वास होता है।

7. मान्यता है कि इस एकादशी के उपवास से व्यक्ति मोक्ष को पा लेता है।

8. मान्यता है कि इस व्रत को रखने से प्यार में आ रही किसी भी तरह की बाधाओं से मुक्ति मिलती है।
9. यदि किसी पति-पत्नी के बीच रिश्ते खराब हैं या तलाक की नौबत आ गई है तो भी इस एकादशी का व्रत रखने से इस समस्या का समाधान हो जाता है।

10. एकादशी का व्रत रखने से चंद्र ग्रह संबंधी सभी तरह के दोष मिट जाते हैं।

सावधानी : इस दिन न तो चने और न ही चने के आटे से बनी चीजें खाना चाहिए। शहद खाने से भी बचना चाहिए।



और भी पढ़ें :