कोरोनावायरस : भारत में राहत, दुनिया में आफत

पुनः संशोधित बुधवार, 13 जनवरी 2021 (11:07 IST)
नई दिल्ली। भारत में एक दिन में के 15,968 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,04,95,147 हो गए। इनमें से 1,01,29,111 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.51 प्रतिशत हो गई। एक ओर देश में के मामले में लगातार कमी आ रही है तो दूसरी तरफ दुनियाभर में अभी भी कोरोनावायरस का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, 202 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,51,529 हो गई। आंकड़ों के अनुसार 1,01,29,111 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.51 प्रतिशत हो गई। कोविड-19 से मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है। देश में 2,14,507 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 2.04 प्रतिशत है।
अमेरिका में अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए कोरोना टेस्ट : अमेरिकी सरकार अंतरराष्ट्रीय यात्रियों से अमेरिका के लिए उड़ान भरने से पहले कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर सकती है। यह आदेश 26 जनवरी से प्रभावी हो सकता है। उल्लेखनीय है कि अमेरिका में कोरोना के 2 करोड़ 20 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं और 3,76,000 मौतें हुई हैं।

क्या बोले अर्जेंटीना के स्वास्थ्य मंत्री : अर्जेंटीना के स्वास्थ्य मंत्री गिनेस गोंजालेज गारसिया ने लोगों से कोरोना वायरस से बचाव रखने का आग्रह किया है। गारसिया ने कहा कि हमारे पास आज भले ही वैक्सिन है लेकिन हमारा व्यक्तिगत बचाव हमें बीमारी से दूर रखने में सबसे ज्यादा मददगार है और अगर हम इसमें लापरवाही बरतेंगे तो हालात बिगड़ेंगे।
उल्लेखनीय है कि अर्जेंटीना में कोरोना का पहला मामला पिछले साल तीन मार्च को सामने आया था और यहां अब तक इसके 17,30,921 मामले सामने आए हैं और 44654 मरीजों की मौत हुई है।

जापान में फिर लग सकता है आपातकाल : जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा जापान के और भी प्रांतों में कोरोना का प्रभाव रोकने के लिए आपातकाल लगा सकते हैं। सुगा ने लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के कार्यकारियों से कहा कि टोक्यो में शुक्रवार से लगने वाले आपातकाल के साथ वह चीबा, कंगावा और साइतामा को भी जोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वह पश्चिम के तीन प्रांतों में आपातकाल लगाने पर फैसला लेंगे।



और भी पढ़ें :