तारकिशोर, रेणु देवी हो सकते हैं बिहार के नए उप-मुख्यमंत्री

Tarkishore Prasad
Last Updated: सोमवार, 16 नवंबर 2020 (02:19 IST)
हमें फॉलो करें
पटना। कटिहार से चौथी बार निर्वाचित विधायक को रविवार को भाजपा विधानमंडल दल का नेता और बेतिया से विधायक रेणु देवी को उपनेता चुना गया। ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि दोनों को नीत नई राजग सरकार में उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। आज शाम को नीतीश कुमार की के मुख्यमंत्री के रूप में ताजपोशी होने जा रही है।

रविवार को भाजपा विधानमंडल दल की बैठक में प्रसाद को नेता और रेणु देवी को उपनेता चुना गया। भाजपा बिहार के आधिकारिक ट्‍विटर हैंडल पर कहा गया है, ‘‘भाजपा विधानमंडल दल का नेता चुने जाने पर तारकिशोर प्रसाद और उपनेता चुने जाने पर रेणु देवी को बहुत-बहुत बधाई।’

भाजपा विधानमंडल दल की बैठक में वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह, पार्टी के बिहार चुनाव प्रभारी देवेन्द्र फडणवीस, पार्टी के प्रदेश प्रभारी भूपेंद्र यादव सहित कई नेताओं ने हिस्सा लिया।
renu devi
बैठक में सुशील कुमार मोदी ने पार्टी विधानमंडल दल के नेता के रूप में प्रसाद के नाम का प्रस्ताव किया और सभी विधायकों ने इसका समर्थन किया । प्रसाद अब सुशील मोदी की जगह ही यह जिम्मेदारी संभालेंगे।
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने ट्वीट कर कहा, ‘बिहार में आज सम्पन्न राजग विधानमंडल की बैठक में गठबंधन के नेता के रूप में नीतीश कुमार का सर्वसम्मति से चुनाव किया गया। मैं उन्हें बहुत बहुत बधाई देता हूँ।’

उन्होंने कहा, ‘तारकिशोर प्रसाद भाजपा विधायक दल के नेता तथा राजग के उपनेता होंगे। रेणु देवी जी का भाजपा विधायक दल की उपनेता के रूप में चुनाव हुआ। इन दोनों का भी अभिनंदन और ढेर सारी शुभकामनाएँ।’
सुशील कुमार मोदी और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी प्रसाद और रेणु देवी को बधाई दी। गौरतलब है कि सोमवार को शाम साढ़े चार बजे नई सरकार का समारोह होगा और नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री बनेंगे। राजग की बैठक में उन्हें राजग का नेता चुना गया। इसके बाद वह राज्यपाल से मिले और सरकार बनाने का दावा पेश किया।
बिहार में राजग गठबंधन की पिछली सरकारों में उपमुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी के एक ट्वीट से कई तरह की अटकलें शुरू हो गईं। सुशील मोदी ने ट्वीट किया, ‘भाजपा एवं संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा।’

उन्होंने कहा, ‘आगे भी जो ज़िम्मेवारी मिलेगी, उसका निर्वहन करूँगा। कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।’ इसके बाद तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को उपमुख्यमंत्री बनाए जाने की अटकलें तेज हो गई हैं। इस बारे में पूछे जाने पर प्रसाद ने कहा कि पार्टी का राष्ट्रीय और प्रांतीय नेतृत्व निर्णय लेता है और इस बारे में उन्हें कोई टिप्पणी नहीं करनी है।
उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता के रूप में हम सभी काम करते हैं, नेतृत्व से जो जिम्मेदारी मिलती है, उसका निर्वहन करते हैं। तारकिशोर प्रसाद वैश्य समुदाय से आते हैं और चौथी बार विधायक निर्वाचित हुए हैं। प्रसाद आरएसएस से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में विभिन्न दायित्वों को निभा चुके हैं।

उन्होंने अपने चुनावी हलफनामे में अपना पेशा कृषि बताया है और उनकी शिक्षा इंटरमीडिएट पास बतायी गई है। वहीं, रेणु देवी अति पिछड़ा वर्ग के तहत नोनिया समुदाय से आती हैं और बेतिया सीट से चार बार विधायक चुनी गई हैं।



और भी पढ़ें :