Paush Maas: 13 दिसंबर से पौष मास, गुरु तारा होगा अस्त, मलमास के कारण शुभ कार्यों पर लगेगा विराम

हमारे सनातन धर्म में मुहूर्त का बहुत महत्व होता है। शास्त्रानुसार किसी भी को संपन्न करने के लिए विशेष मुहूर्त का होना अति-आवश्यक माना गया है।

शुभ मुहूर्त के बिना कोई भी शुभ कार्य जैसे विवाह, मुंडन, व्रत धारण/उद्यापन, गृहारंभ, गृह प्रवेश आदि कार्यों का निषेध रहता है। शुभ मुहूर्त में प्रारंभ या संपन्न किए गए कार्य अनेक दोषों का शमन करते हुए सिद्ध व सफल होते हैं। आगामी 13 दिसंबर 2019 से पौष मास प्रारंभ, गुरु अस्त एवं धनु संक्रांति (मलमास/खरमास) के चलते शुभ मुहूर्त का अभाव रहेगा। इस अवधि में समस्त शुभ कार्य वर्जित रहेंगे।

आइए जानते हैं किस-किस अवधि में किन कारणों से शुभ कार्यों का निषेध रहेगा।

मुहूर्ताभाव अवधि-

1. पौष मास आरंभ- 13 दिसंबर 2019 से 10 जनवरी 2020 तक।

2. गुरु तारा अस्त- 14 दिसंबर 2019 से 9 जनवरी 2020 तक।

3. मलमास/खरमास- 16 दिसंबर 2019 से 14 जनवरी 2020 तक।

उपर्युक्त अवधि अर्थात् 13 दिसंबर 2019 से 14 जनवरी 2020 तक मुहूर्ताभाव रहेगा। अत: इस अवधि में समस्त शुभ कार्य वर्जित रहेंगे।
-ज्योतिर्विद् पं हेमन्त रिछारिया
प्रारब्ध ज्योतिष परामर्श केन्द्र
सम्पर्क: [email protected]


और भी पढ़ें :