जुलाई : कैसा होगा यह माह देश-विदेश के लिए

जुलाई प्रारंभ में पश्चिम के देशों में सुभिक्ष आदि का सुख रहेगा। पूर्व तथा उत्तर के देशों में कष्ट-अशांति तथा दक्षिण के देशों में युद्धादि का भय बना रहेगा। इस माह में 5 शुक्रवार होने से प्रजा को सुख मिलेगा। अच्छी वर्षा व सर्वत्र सुख तथा अन्न-जल की पूर्ति रहेगी। 




जानवरों पर विपत्ति आएगी विशेषकर हाथी व हिरण पर अधिक कष्ट रहेगा। नदी-नालों में उफान से जनजीवन अस्त-व्यस्त रहेगा। अन्न के भावों में तेजी आएगी। सरकार से प्रजा में असंतोष उत्पन्न होगा। सरकार में भी असंतोष की स्थिति निर्मित हो सकती है। 
 
व्यापार में विश्व में असमंजस की वृद्धि होगी तथा विश्व में सामाजिक-नैतिक व्यवहार में भी वृद्धि होगी। स्वर्ण में तेजी आएगी। 17 जुलाई से दक्षिण के देशों में सुभिक्ष आदि का सुख रहेगा, उत्तर तथा पश्चिम के देशों में पीड़ा एवं पूर्व के देशों में अशांति रहेगी। 
 
आगे पढ़ें क्या कहते हैं आकाशीय लक्षण
 
 



और भी पढ़ें :