कर्ज इन 5 समय में लिया तो कभी नहीं होगा चुकता, रहें सावधान

अनिरुद्ध जोशी| पुनः संशोधित शनिवार, 3 अक्टूबर 2020 (10:55 IST)
लेने का दिन, वार, या नक्षत्र नियुक्त है। इससे अलग यदि विपरित दिनों में कर्ज लिया तो मान्यता अनुसार कहते हैं कि जिंदगी भर चुकाने से भी वह चुकता नहीं होता है। आओ जानते हैं इसी संदर्भ में मुहूर्त प्रकरण अनुसार कर्ज के लेन-देन के निषिद्ध मुहूर्त।

1.वार : कभी भी मंगलवार, शनिवार और रविवार को कर्ज नहीं लेना चाहिए। इस दिन लिया गए कर्ज को चुकाने में बहुत ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता है और मूल से कई गुना ज्यदा देना पड़ सकता है।

2.योग : वृद्धि योग, द्विपुष्कर योग और त्रिपुष्कर योग में लिया गया कर्ज या कभी भी चुकता नहीं होता है। कहते हैं कि वृद्धि योग में कर्ज की वृद्धि, द्विपुष्कर योग में कर्ज दोगुना और त्रिपुष्कर योग में कर्ज तीन गुना बढ़ जाता है।
3.नक्षत्र : हस्त नक्षत्र में ऋण कभी नहीं लिया जाता अन्यथा इसे चुकाना कठिन हो जाता है परंतु इस दिन कर्ज चुकाने से समृद्धि और सौभाग्य लाभ मिलता है। इसके अलावा मूल, आद्रा, ज्येष्ठा, विशाखा, कृतिका, ध्रुव संज्ञक नक्षत्र अर्थात उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ तथा उत्तराभाद्रपद एवं रोहिणी आदि नक्षत्रों में भी कर्ज नहीं लेना चाहिए।

4.लग्न : इसी प्रकार कहते हैं कि चर लग्न में कर्जा नहीं देना चाहिए वर्ना वापस नहीं मिलता है। चर लग्न में पांचवें व नौवें स्थान में शुभ ग्रह व आठवें स्थान में कोई भी ग्रह नहीं हो, वरना ऋण पर ऋण चढ़ता चला जाएगा। परंतु, चर लग्न जैसे मेष, कर्क, तुला और मकर में कर्ज लेने पर शीघ्र ही उतर जाता है, लेकिन इन चर लग्न में कभी किसी को कर्ज नहीं देना चाहिए।
5.संक्रांति : इसी प्रकार से संक्राति में भी कर्ज नहीं लेना चाहिए। वर्ष में 12 संक्रांतियां होती हैं। उक्त सभी संक्रातियों में कर्ज लेन-देन नहीं करना चाहिए।



और भी पढ़ें :