पेड़ काटने वालों पर कार्रवाई हो

खरगोन | Naidunia| पुनः संशोधित बुधवार, 8 फ़रवरी 2012 (15:18 IST)
में अंधाधुंध वन कटाई से पर्यावरण को काफी क्षति हो रही है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि वन विभाग के कर्मचारी भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे। साथ ही माँग की है कि कटाई पर अंकुश लगाते हुए ऐसे तत्वों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।


इस संबंध में समाजसेवी रामचंद्र मोरी ने बताया कि एक साल पहले सालाखेड़ी मार्ग हरा-भरा था। लगातार पेड़ कटाई के कारण अब ठूँठ अधिक नजर आते हैं। यदि जल्द ध्यान नहीं दिया तो पूरा जंगल साफ हो जाएगा। इसी तरह वन समिति सदस्य राघौराम वर्मा ने बताया कि सब-रेंज में बने भोपाड़ा, उमरदड़ आदि तालाबों से खुलेआम पंप द्वारा सिंचाई हो रही है। इसके लिए मोटी रकम ली जाती है।

ग्रामीणों का आरोप है कि पिछले दिनों वन कटाई के एक मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की गई। इस पर डीएफओ आरएस अलावा और रेंजर बीएल खनूजा को शिकायत की थी। इस संबंध में जब श्री खनूजा से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि बताया कि मामले की जाँच के लिए तीन सदस्यों की टीम बनाई है। रिपोर्ट मिलते ही उचित कार्रवाई की जाएगी। -निप्र



और भी पढ़ें :