सिंहासन बत्तीसी : सत्‍ताइसवीं पुतली मलयवती की कहानी

WD|

विक्रम को लगा कि बली ने सिर्फ टालने के लिए यह संदेश भिजवाया है। उनके दिल पर चोट लगी और उन्होंने फिर तलवार से अपनी गर्दन काट ली। प्रहरियों में खलबली सच गई और उन्होंने राजा बली तक विक्रम के बलिदान की खबर पहुंचाई।

राजा बली समझ गए कि वह व्यक्ति दृढ़ निश्चयी है और बिना भेंट किए जाने वाला नहीं है। उन्होंने फिर नौकरों द्वारा अमृत भिजवाया और उनके लिए संदेश भिजवाया कि भेंट करने को वे राज़ी हैं।

नौकरों ने अमृत छिड़ककर उन्हें जीवित किया तथा महल में चलकर बली से भेंट करने को कहा। जब वे राजा बली से मिले तो राजा बली ने उनसे इतना कष्ट उठाकर आने का कारण पूछा।
विक्रम ने कहा कि धार्मिक ग्रन्थों में उनके बारे में बहुत कुछ वर्णित है तथा उनकी दानवीरता और त्याग की चर्चा सर्वत्र होती है, इसलिए वे उनसे मिलने को उत्सुक थे। राजा बली उनसे बहुत प्रसन्न हुए तथा विक्रम को एक लाल मूंगा उपहार में दिया और बोले कि वह मूंगा मांगने पर हर वस्तु दे सकता है। मूंगे के बल पर असंभव कार्य भी संभव हो सकते हैं।



और भी पढ़ें :