'नापाक' बोल, हां.. हमने मारा कैप्टन सौरभ कालिया को...

PR
कैप्टन रोमेल अकरम ने भी मंच से अपने के अनुभव बताए। उसकी आंख के नीचे जख्म का एक निशान बना हुआ था। उसने कहा कि हमारी पोस्ट पर करीब 600 भारतीयों ने हमला कर दिया। हमारे 6 सैनिक शहीद हो गए, कई जख्मी हो गए। हमारी संख्या 22 थी। हमारे ऑटोमैटिक वैपन से फायर नहीं हो रहा था क्योंकि गोलीबारी के चलते उनकी काफी समय से सफाई नहीं हो पाई।

WD|
हमारे पास आरपीजी-7 रॉकेट लांचर था, जिसे सैनिकों को चलाना भी नहीं आता था। मैंने उससे फायर किया एक गोली पत्थर से लगते हुए मेरे पास गुजरी, जबकि दूसरी गोली मेरी आंख के नीचे लगी। मेरा काफी खून बह गया था, लेकिन मैंने ड्रेसिंग की। मेरे सीओ भी पोस्ट पर थे, जबकि भारतीय सेना में आमतौर पर ऐसा नहीं होता कि एक छोटी सी पोस्ट पर सीओ मौजूद रहे।



और भी पढ़ें :