मीडियास्टीनल सेमीनोमा : कीमोथेरेपी है सर्वोत्तम इलाज

WD|
ND
हाल ही में आपने सुना होगा कि भारत के चहेते क्रिकेटर युवराज सिंह कैंसर से पीड़‍ित हैं। दुनियाभर में फैली यह गंभीर बीमारी के कई प्रकार है जैसे गले का कैंसर, लंग कैंसर, सर्वाइकल कैंसर आदि। उनमें से एक प्रकार है का कैंसर जिसे मीडियास्टीनल सेमीनोमा कहा जाता है, कैंसर के इसी प्रकार से युवराज अभी जूझ रहे हैं। आइए जानते हैं इस कैंसर और उसके उपचार के बारे में :

क्या है मीडियास्टीनल सेमीनोमा
मीडियास्टीनम सीने में ठीक दो फेफड़ों के बीच स्थित होता है। इसमें कैविटी (दरार) हो जाती है और यह फेफड़ों को छोड़कर सीने के सभी अंगों को घेर लेता है। मीडियास्टीनम में मौजूद अंगों में हृदय, महाधमनी, थाइमस ग्रंथि, सीने के हिस्से में मौजूद श्वास नली, लिम्फ नोड्स और महत्वपूर्ण तंत्रिकाएं शामिल हैं। इस तरह की कैविटी को सेमीनोमा कहा जाता है वैसे यह टेस्टिस (वीर्यकोष) का कैंसर है लेकिन युवी के मामले में इसकी शुरुआत सीने से हुई है और यह अतिअसाधारण सेमीनोमा है। यह आमतौर पर युवाओं में होता है।
लक्षण
- सीने में दर्द होना
- अधिक बलगम की खांसी होना
- सांस लेने में दिक्कत होना

उपचार
अधिकांश कैंसर की तरह इसका भी सबसे अच्छा इलाज कीमोथेरेपी ही है। इलाज का चयन कैंसर की स्टेज और मीडियास्टीनल ट्यूमर के साइज पर निर्भर करता है। अगर कैंसर शुरुआती चरण में है और ट्यूमर अपेक्षीकृत छोटा है तब तब रेडियो बायोप्सी के दौरान ही इस ऑपरेट कर दिया जाता है, और यह दोबारा न हो इसके लिए रेडीएशन थेरेपी का ट्रीटमेंट दिया जाता है।
बड़े आकार के ट्यूमर के लिए रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी का ट्रीटमेंट दिया जाता है। कीमोथेरेपी में दवाइओं द्वारा शरीर में मौजूद कैंसर कोशिकाओं को नष्ट किया जाता है। जिससे ट्यूमर सिकुड़ जाता है और कैंसर बॉडी में नहीं फैल पाता।



और भी पढ़ें :