आइए, किसी का जीवन सुधारें

PR
जो भी अपने देश और समाज के विकास में भागीदार होना चाहते हैं, उनके लिए गिव इंडिया के साथ जुड़कर उनका सहयोग करने का बढि़या अवसर है। आपका धन सुरक्षित हाथों में है और देश के काम आ रहा है। गिव इंडिया को दिया गया हर पैसा वाजिब तरीके से और वाजिब उद्देश्यों के लिए इस्‍तेमाल होता है

PR
देश भर में 150 से अधिक जिम्‍मेदार गैर सरकारी संस्‍थाओं को धन प्रदान करके इस सेवा कार्य में सहयोगी हो सकते हैं। पिछले 7 वर्षों में लगभग 50,000 लोग 40 करोड़ से अधिक की धनराशि इस संस्‍था को प्रदान कर चुके हैं। यह धन विभिन्‍न गैर सरकारी संस्‍थाओं को दिया जाता है और गिव इंडिया इसमें एक माध्‍यम का काम करता है। गिव इंडिया जिन गैर सरकारी संस्‍थाओं की मदद करती है, उनकी जाँच और परीक्षण के नियम भी बहुत कड़े हैं। गिव इंडिया उन्‍हीं संस्‍थाओं की मदद करती है, जो भलीभाँति परखे गए हैं और इन सख्‍त नियमों पर बिल्‍कुल खरे उतरते हैं। इस समय यह संस्‍था प्रतिवर्ष सिर्फ मैराथन के जरिए लगभग 8 करोड़ रु. की धनराशि एकत्र कर रही है। गिव इंडिया के एक कार्यक्रम के तहत लोग प्रतिमाह अपनी तंख्‍वाह का एक हिस्‍सा संस्‍था को प्रदान कर सकते हैं। आज की तारीख में इस संस्‍था के पास ऐसे 16,000 दानकर्ता हैं, जो प्रतिमाह 37 लाख रु. का सहयोग प्रदान कर रहे हैं। आईसीआईसीआई बैंक, पीरामल समूह, एनडीटीवी, जेनपैक इत्‍यादि कंपनियों के कर्मचारी गिव इंडिया को इस तरह का सहयोग प्रदान कर रहे हैं

गिव इंडिया कोई मुनाफे पर टिकी संस्‍था नहीं है। उसका उद्देश्‍य उन निर्धन और जरूरतमंद लोगों की मदद करना है, जिनकी प्रतिभा इस देश के काम आ सकती है। आप परोपकार के इस कार्य में भागीदार हो सकते हैं। क्‍या पता, आपका धन किसी ऐसे बच्‍चे की पढ़ाई में काम आ जाए, जिस पर कल को इस देश को आपको नाज हो। समाज के प्रति अपने कर्तव्‍य पूरे करने का इससे बेहतरी तरीका और क्‍या हो सकता है भला।



और भी पढ़ें :