सूर्य का मीन राशि में प्रवेश आज

उज्जैन | Naidunia| पुनः संशोधित बुधवार, 14 मार्च 2012 (01:14 IST)
नवग्रहों के राजा सूर्य बुधवार दोपहर 1 बजकर 45 मिनट पर कुंभ राशि से गुरु की राशि मीन में प्रवेश करेंगे। सूर्य का मीन राशि में परिभ्रमण 14 अप्रैल तक रहेगा। यह अवस्था सूर्य की मीन संक्रांति कहलाती है। ज्योतिष शास्त्र में गुरु की राशि में सूर्य का परिभ्रमण मलमास (खरमास) कहलाता है।ज्योतिषाचार्य पं. अमर डब्बावाला के अनुसार सूर्य का जब-जब गुरु की राशि धनु व मीन में परिभ्रमण होता है अथवा धनु व मीन संक्रांति होती है, वह मलमास कहलाती है। मलमास में माँगलिक कार्य वर्जित रहते हैं। भक्ति, साधना व उत्सव का क्रम जारी रहता है।


यह कार्य वर्जित

शास्त्रीय मान्यता अनुसार मलमास में नामकरण, विद्या आरंभ, कर्ण छेदन, अन्न प्राशन, चौलकर्म, उपनयन संस्कार, विवाह संस्कार, ग्रह प्रवेश तथा वास्तु पूजन आदि माँगलिक कार्य वर्जित माने गए हैं।


भक्ति का क्रम जारी

सूर्य की मीन संक्रांति में भले ही मॉंगलिक कार्यों पर विराम रहेगा किंतु भक्ति का क्रम जारी रहेगा। बुधवार 14 मार्च से चिंतामण जत्रा प्रारंभ होगी तथा शीतला सप्तमी पूजन होगा। 23 मार्च से चैत्रादि नवरात्रि प्रारंभ होगी। 1 अप्रैल को रामनवमी, 2 अप्रैल को दशहरा, 3 अप्रैल को कामदा एकादशी, 4 अप्रैल को अनंग व्रत, 6 अप्रैल को वैशाख पूर्णिमा तथा हनुमान जंयती, 7 अप्रैल को गलंतिका बंधान के पश्चात 10 अप्रैल से मंगलनाथ यात्रा आदि धार्मिक कार्य विधिवत चलते रहेंगे।



और भी पढ़ें :