शुक्रवार, 12 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. लाइफ स्‍टाइल
  2. योग
  3. योगासन
  4. pranayam for high bp
Written By WD Feature Desk

अचानक बढ़ जाए ब्लड प्रेशर, तो करें ये योगाभ्यास

उच्च रक्तचाप में तुरंत मिलेगा आराम

अचानक बढ़ जाए ब्लड प्रेशर, तो करें ये  योगाभ्यास - pranayam for high bp
Yoga For Blood Pressure : हाई ब्लड प्रेशर अधिक काफी आम समस्या बनता जा रहा है। जिससे बहुत बड़ी संख्या में लोग परेशान हैं। ब्लड प्रेशर कंट्रोल के लिए खानपान मे बदलाव जितना जरूरी है उतना ही जरूरी योगाभ्यास भी हैं। यदि आप हाई ब्लड प्रेशर से परेशान हैं तो आपको रोजाना कुछ योगाभ्यास जरूर करने चाहिए। आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे योगाभ्यास के विषय में जानकारी दे रहे हैं जो आपके बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर सकते हैं।

शवासन
शवासन न केवल हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के साथ आपके शरीर को भी आराम पहुंचाता है। शवासान आपको स्ट्रेस फ्री रखने में भी काफी मदद कर सकता है। शवासन आपके मन शरीर और दिमाग को शांत बनता है। शवासन का अभ्यास दिन में किसी भी समय किया जा सकता है।

बलासन
हाई ब्लड प्रेशर में बलासन करने से काफी फायदा मिलता है। बालासन कई मदद से शरीर को रिलैक्स करने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में बहुत फ़ायदा मिलता है। इसके अभ्यास से हाई ब्लड प्रेशर तेजी से कंटोल होता है। बलासान को रोजाना करने से हिप और रीड की हड्डी में भी काफी आराम मिलता है।

अनुलोम विलोम



बढ़े हुए रक्तचाप को तेजी से काम करने के लिए अनुलोम विलोम
बेहतरीन योग अभ्यास है। ये हाई ब्लड प्रेशर को तेजी से नॉर्मल करता है। यदि प रोजाना 5 से 10 मिनट अनुलोम विलोम का अभ्यास किया जाए तो इससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से बहुत हद तक निजात मिल सकती है।

शीतली
शीतली प्राणायाम हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्या को दुरुस्त करने में बेहद कारगर है। यह बेहतरीन योग का अभ्यास हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को रोजाना करने कई सलाह दी जाती है।

अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष, इतिहास, पुराण आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित  वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं, जो विभिन्न सोर्स से लिए जाते हैं। इनसे संबंधित सत्यता की पुष्टि वेबदुनिया नहीं करता है। सेहत या ज्योतिष संबंधी किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। इस कंटेंट को जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है जिसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।