हँसती हैं, घुलती हैं मिलती हैं हिलेरी!

हिलेरी कहती हैं- समाज और कार्यालयीन साथियों को कामकाजी स्त्रियों का दृष्टिकोण संवेदना के साथ समझना चाहिए, ताकि वे दोनों मोर्चों पर अपना सर्वश्रेष्ठ दे सकें। महिलाओं को एक-दूसरे की जिम्मेदारियाँ बाँटना चाहिए और अपने स्वयं के स्वास्थ्य और व्यक्तित्व पर ध्यान देना चाहिए, ताकि ऊर्जा, उत्साह और जोश बना रहे।



और भी पढ़ें :