UP: जीका वायरस का कानपुर में कहर जारी, 13 नए मरीज मिले, संख्या पहुंची 79 तक

अवनीश कुमार| Last Updated: शनिवार, 6 नवंबर 2021 (18:17 IST)
हमें फॉलो करें
प्रमुख बिंदु
  • का में जारी
  • प्रशासन की ओर से स्पष्ट दिशा-निर्देश
  • बुखार पीड़ित और गर्भवती महिलाओं के सैंपल एकत्रित
कानपुर। कानपुर में जीका वायरस का संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ता ही चला जा रहा है। शनिवार को आई रिपोर्ट में 13 नए जीका वायरस संक्रमित की पुष्टि हुई है जिसके चलते अब कानपुर में जीका वायरस संक्रमित लोगों की संख्या 79 हो गई है। शनिवार को आई रिपोर्ट में 10 पुरुष और 3 महिलाएं हैं और अब तक कानपुर में 79 जीका संक्रमित मिले हैं जिसमें 55 पुरुष व 24 महिलाएं हैं।

सोर्स पता लगने में नाकामयाब स्वास्थ्य विभाग : स्वास्थ्य महकमे के अधिकारी कानपुर में जीका वायरस का सोर्स पता करने में अब तक नाकामयाब रहे हैं। इसी के चलते जीका वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ते ही चले जा रहा है और सबसे ज्यादा जीका वायरस के मरीज एयरफोर्स परिसर, तिवारीपुर बगिया, बदली पुरवा, ओमपुरवा, काकोरी, लाल बंगला, हरजिंदर नगर, आदर्श नगर, लालकुर्ती, काजीखेड़ा, कोयला नगर, गिरिजा नगर, तुलसी नगर, भवानी नगर एवं श्याम नगर ई ब्लॉक क्षेत्र में मिले हैं।
3200 के भेजे गए सैम्पल : स्वास्थ्य विभाग ने जीका वायरस के संक्रमण के लक्षण वाले, बुखार पीड़ित और गर्भवती महिलाओं के सैंपल एकत्र किए गए हैं। अब तक 3,200 से अधिक लोगों के सैंपल एकत्र करके जांच के लिए लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी और पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वॉयरोलॉजी भेजे गए हैं।

अभी और बढ़ सकते हैं मरीज : स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो जीका वायरस संक्रमण नवंबर माह में तेजी के साथ बढ़ सकता है जिसके चलते मरीजों की संख्या में आने वाले दिनों में तेजी से इजाफा होगा। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग के अंदर व्यवस्थाओं को लेकर तेजी के साथ कार्य किया जा रहा है। अब प्रशासन की ओर से स्पष्ट दिशा-निर्देश दिए गए हैं कि मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अस्पतालों में भी जीका वायरस से लड़ने के संपूर्ण इंतजाम किए जाएं।
क्या बोले अधिकारी? : डॉ. जीके मिश्रा (अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, कानपुर मंडल) ने बताया कि 13 और जीका वायरस संक्रमित मिले हैं जिनमें 3 महिलाएं हैं। जीका प्रभावित क्षेत्रों में सर्विलांस टीमें लगाई गई हैं। घर-घर सर्वे, सैम्पलिंग, सोर्स रिडक्शन, साफ-सफाई, दवा छिड़काव और जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।



और भी पढ़ें :