मेरठ में ईंट से कुचलकर साधु की हत्या

हिमा अग्रवाल| Last Updated: मंगलवार, 29 जून 2021 (19:25 IST)
मेरठ। कहते हैं कि न शराबी से दोस्ती अच्छी और न ही दुश्मनी। इसका जीता-जागता उदाहरण के बढला गांव का है, जहां एक साधु की हत्या की ईंट से कुचलकर हत्या कर दी गई। हत्या का शक उसके शराबी साथियों पर जा रहा है जिनके साथ उसने बीती रात बैठकर शराब पी थी। आज मंगलवार सुबह साधु का नग्न शव गांव की सड़क पर मिलने से हड़कंप मच गया। हत्या का शक साधु के साथ शराब पीने वाले ग्रामीणों पर है। पुलिस ने इस मामले में 2 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

मुंडाली थाना क्षेत्र के बढला गांव में सुबह 5 बजे का खून से लथपथ शव सड़क पर मिलने से सनसनी फैल गई। साधु के सिर पर ईंटों से प्रहार किया गया था। उसके मुंह के दांत भी टूटे हुए थे जिसे देखकर लगता है कि पहले साधु के साथ कहासुनी और मारपीट हुई है, उसके बाद सिर पर ईंटों से वार हुआ है। आज सुबह ग्रामीण अपने गांव से खेत की तरफ जा रहे थे, तब रास्ते में लगभग 50 वर्षीय चंद्रपाल का शव पड़ा हुआ था। शव को देखते ही वहां पर आक्रोशित लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया और हत्यारों को पकड़ने की मांग करने लगे।


वारदात की सूचना पर कई थानों की पुलिस और डॉग स्क्वॉड और फॉरेंसिक की टीम मौके पर पहुंची। ग्रामीणों ने शव को सड़क पर रखते हुए पुलिस का घेराव किया और 24 घंटे में इस हत्याकांड को खोलने का समय दिया है। हालांकि शक के तौर पर 2 ग्रामीणों को पुलिस ने हिरासत में ले रखा है। गांव वालों का मानना है कि साधु ने रात कुछ लोगों के साथ बैठकर शराब पी थी जिसमें कुछ कहासुनी हुई होगी और उसी में हत्या हो गई।
ग्रामीणों ने बताया कि साधु का शव नग्नावस्था में सड़क पर मिला। माना जा रहा है कि जिन लोगों ने रात उनके साथ शराब पी है, उन्होंने ही ईंटों से वार करके मौत के घाट उतार दिया। घटनास्थल पर 4 देसी शराब के पव्वे और कोल्डड्रिंक की बोतल मिली है, साथ ही साधु का टूटा हुआ दांत भी घटनास्थल पर मिला है। साधु के साथ शराब पीने वाले लगभग 25 से लेकर 35 साल के बीच के बताए जा रहे हैं। साधु को रात में फोन करके बुलाया गया था और आज सुबह उसका शव मिला है। हत्या किसी अन्य जगह पर हुई है और शव को सड़क पर लाकर फेंका गया है। इस मामले में साधु के साथ खाने-पीने वाले योगेंद्र और उसके एक साथी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।
मुंडाली थाना अंतर्गत बडला गांव में सिद्धपीठ चामुंडादेवी का मंदिर है। इस मंदिर के पास ही चंद्रपाल साधु पिछले 12 साल से ही अपनी साधना कर रहे थे। साधु खाने-पीने के शौकीन थे। अक्सर कुछ लोगों के साथ उनकी पार्टी होती थी। बीती रात भी इस पार्टी के बाद उनकी हत्या हुई है। हत्या खाने-पीने के विवाद में हुई है या किसी अन्य वजह से? पुलिस इसकी जांच कर रही है। वहीं घटना की गंभीरता को देखते हुए फॉरेंसिक और डॉग स्क्वॉड की टीम भी साक्ष्य एकत्रित कर रही है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया। पुलिस जल्दी ही इस हत्या का खुलासा करने का दम भर रही है।



और भी पढ़ें :