रहिये अब ऐसी जगह चलकर

ग़ालिब की ग़ज़ल

WD|
WD
WD
रहिये अब ऐसी जगह चलकर, जहाँ कोई न हो
हम सुख़न कोई न हो और हम ज़ुबाँ कोई न हो

बेदर-ओ-दीवार सा इक घर बनाना चाहिए
कोई हमसाया न हो और पासबाँ कोई न हो

पड़िए गर बीमार, तो कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाइए, तो नौहाख़्वाँ कोई न हो




और भी पढ़ें :