नीरज चोपड़ा को मिली बड़ी जिम्मेदारी, राष्ट्रमंडल खेलों में करेंगे भारत की अगुवाई

Last Updated: मंगलवार, 26 जुलाई 2022 (13:02 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली:

भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने गुरुवार को राष्ट्रमंडल खेलों के लिए भारत की 37 सदस्यीय एथलेटिक्स टीम की घोषणा की जिसकी अगुआई ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा करेंगे।

चयन समिति ने उम्मीद के मुताबिक खिलाड़ियों का चयन किया है और किसी भी हैरान करने वाले नाम को टीम में जगह नहीं मिली है।एएफआई की चयन समिति द्वारा चुनी गई 37 सदस्यीय टीम में 18 महिला खिलाड़ी हैं जिसमें स्टार धाविकाएं हिमा दास और दुती चंद भी शामिल हैं जिन्हें महिला चार गुणा 100 मीटर रिले टीम में जगह दी गई है।चयनकर्ताओं ने पुरुष चार गुणा 400 मीटर रिले टीम का भी चयन किया है।

एएफआई अध्यक्ष आदिले सुमारिवाला ने कहा कि विदेश में प्रतिस्पर्धा पेश कर रहे खिलाड़ियों और जिन खिलाड़ियों को फॉर्म और फिटनेस साबित करने को कहा गया है उनके अलावा टीम में चुने गए सभी खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों से पहले अमेरिका के चुला विस्टा में ट्रेनिंग करेंगे और उनके वीजा का इंतजार है।

सुमारिवाला ने कहा, ‘‘उम्मीद करते हैं कि हम पिछली बार से अधिक पदक जीत पाएंगे।’’भारत के ट्रैंक एवं फील्ड खिलाड़ियों ने 2018 गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में एक स्वर्ण (नीरज चोपड़ा), एक रजत (सीमा पूनिया) और एक कांस्य पदक (नवजीत कौर ढिल्लों) जीता था।

हाल में आठवीं बार अपना 3000 मीटर स्टीपलचेज राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ने वाले अविनाश साब्ले और पिछले महीने दो बार 100 मीटर का अपना ही राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ने वाली ज्योति याराजी को भी टीम में जगह मिली है।

चेन्नई में हाल में राष्ट्रीय अंतर राज्यीय चैंपियनशिप में 14.14 मीटर के प्रयास के साथ त्रिकूद में अपना ही राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ने वाली ऐश्वर्या बाबू भी टीम का हिस्सा हैं।दो सौ मीटर में राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक अमलान बोरगोहेन टीम में जगह नहीं बना पाए क्योंकि वह एएफआई द्वारा तय राष्ट्रमंडल खेलों का क्वालीफाइंग स्तर हासिल नहीं कर पाए।

चुने गए कुछ खिलाड़ियों को हालांकि बर्मिंघम खेलों से पहले अपनी फॉर्म और फिटनेस हासिल करनी होगी।चक्का फेंक की अनुभवी खिलाड़ी सीमा पूनिया को अतीत में उनके प्रदर्शन को देखते हुए पांचवीं बार राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा लेने का मौका दिया गया है। उन्हें हालांकि अमेरिका में प्रतियोगिता के दौरान एएफआई द्वारा तय क्वालीफाइंग स्तर हासिल करना होगा।

पूनिया ने अब तक चारों बार राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीते हैं।सुमारिवाला ने कहा, ‘‘राष्ट्रमंडल खेलों में सीमा पूनिया का प्रतिनिधित्व पूरी तरह से अमेरिका के उनके प्रदर्शन पर निर्भर करेगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अतीत में राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में उसके प्रदर्शन को देखते हुए हमने उन्हें अमेरिका में ट्रेनिंग और प्रतिस्पर्धा पेश करने की स्वीकृति दी है।’’

पूनिया ने 10 से 14 जून तक राष्ट्रीय अंतर राज्यीय सीनियर चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लिया था जो राष्ट्रमंडल खेलों में चयन के लिए क्वालीफाइंग प्रतियोगिता थी।

बर्मिंघम खेलों के लिए पुरुष भाला फेंक स्पर्धा में तीन भारतीय हिस्सा लेंगे। इस स्पर्धा में चोपड़ा के साथ डीपी मनु और रोहित यादव भारत की ओर से चुनौती पेश करेंगे। पुरुष त्रिकूद के लिए अब्दुल्ला अबुबाकर, प्रवीण चित्रावेल और एल्दोसे पॉल को टीम में जगह मिली है।

सुमारिवाला ने कहा, ‘‘हम भारतीय ओलंपिक संघ से आग्रह कर रहे हैं कि हमारे कोटा में एक का इजाफा किया जाए और कुछ एथलीट को मान्यता कार्ड दिलाने में मदद की जाए। हमने कुछ ऐसे खिलाड़ियों को भी शामिल किया है जिन्हें खेलों से पहले अपनी फिटनेस और फॉर्म साबित करनी होगी।’’

एएफआई को 28 जुलाई से आठ अगस्त तक होने वाले खेलों के लिए भारतीय टीम में 36 कोटा स्थान दिए गए हैं।
गोला फेंक के खिलाड़ी तेजिंदरपाल सिंह तूर को कजाखस्तान में अच्छा प्रदर्शन करना होगा जबकि चार गुणा 400 मीटर रिले टीम में अमोज जैकब को अपनी फॉर्म और फिटनेस साबित करनी होगी।

अंतर राज्यीय चैंपियनशिप में भारत ए टीम की ओर से अंतिम चरण में दौड़ते हुए जैकब की पैर की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था।सुमारिवाला ने बताया कि चक्का फेंक की नवजीत कौर ढिल्लों और सीमा अंतिल पूनिया के अलावा तार गोला फेंक की सरिता सिंह को कजाखस्तान या कैलीफोर्निया में अच्छा प्रदर्शन करना होगा जबकि पैदल चाल की खिलाड़ी भावना जाट को अपनी फिटनेस साबित करनी होगी।

राष्ट्रीय अंतर राज्यीय चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लेने और इसमें हिस्सा लेने से छूट नहीं मांगने के कारण ऊंची कूद में राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक तेजस्विन शंकर को टीम में जगह नहीं मिली है।

सुमारिवाला ने कहा, ‘‘सिर्फ तीन खिलाड़ियों नीरज चोपड़ा, अविनाश साब्ले और सीमा पूनिया ने राष्ट्रीय अंतर राज्यीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेने से छूट मांगी थी। शंकर राष्ट्रीय अंतर राज्यीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेने नहीं आए और ना ही उन्होंने इसमें हिस्सा लेने से छूट मांगी।’’

सुमारिवाला ने कहा कि निरंतरता की कमी के कारण लंबी कूद के जेस्विन एल्ड्रिन को टीम में जगह नहीं दी गई। एल्ड्रिन ने अप्रैल में फेडरेशन कप में हवा की मदद के बीच 8.37 मीटर के प्रयास के साथ स्वर्ण पदक जीता था।




उन्होंने कहा कि विदेशों में प्रशिक्षण ले रहे अविनाश साबले, नीरज चोपड़ा और सीमा अंतिल पुनिया ने चेन्नई में राष्ट्रीय अंतर-राज्य एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भाग लेने से छूट मांगी और उन्हें छूट दी गई।

टीम इस प्रकार है:

पुरुष: अविनाश साब्ले (3000 मीटर स्टीपलचेज), नितेंदर रावत (मैराथन), एम श्रीशंकर और मोहम्मद अनीस याहिया (लंबी कूद), अब्दुल्ला अबुबाकर, प्रवीण चित्रावेल और एल्दोसे पॉल (त्रिकूद), तेजिंदरपाल सिंह तूर (गोला फेंक); नीरज चोपड़ा, डीपी मनु और रोहित यादव (भाला फेंक), संदीप कुमार और अमित खत्री (पैदल चाल); अमोज जैकब, नोह निर्मल टॉम, अरोकिया राजीव, मोहम्मद अजमल, नागनाथन पांडी और राजेश रमेश (चार गुणा 400 मीटर रिले)।




और भी पढ़ें :