सिंहस्थ में किन्नर अखाड़े की पेशवाई देखने उमड़ा शहर

उज्जैन|
उज्जैन। सिंहस्थ में पहली बार अखाड़े ने भी शिविर लगाया है। गुरुवार को दशहरा मैदान से निकली तो देखने के लिए पूरा शहर ही उमड़ पड़ा। 
पेशवाई के दौरान आमजन किन्नरों से आशीर्वाद भी ले रहे थे और उन्हें भेंट भी दी जा रही थी, जिसे वे सहज रूप से स्वीकार कर आशीर्वाद देते चल रहे थे। 
किन्नरों के प्रति स्नेह का भाव देखकर किन्नर भी अचंभित थे। पेशवाई में ऊंट, बैंड-बाजे, बग्घियां सहित ई-रिक्शा भी शामिल थे। पर्यावरण संरक्षण संबंधी संदेश भी पेशवाई के माध्यम से दिया जा रहा था। 
किन्नरों ने पहली बार कुंभ स्नान को लेकर के समीप हासमपुरा स्थित आध्यात्मिक वाटिका के ऋषि अजय दास महाराज के नेतृत्व में गत वर्ष 13 अक्टूबर को किन्नर मुंबई का गठन किया था।
 
अजयदास महाराज को अखाड़े का संरक्षक, टीवी शो बिगबॉस के घर में अपने प्रवेश से सुर्खियां बटोरने वाली किन्नर लक्ष्मीनारायण और मध्यप्रदेश के सागर की महापौर रह चुकीं कमला बुआ को इस अखाड़े का प्रमुख नियुक्त किया गया था। इसका एक संविधान भी बनाया गया है। इसके अलावा देश की विभिन्न दिशाओं में आठ पीठेश्वर व दो उप पीठेश्वर को भी नियुक्त किया गया।   
विभिन्न मार्गों से होते हुए पेशवाई अपने शिविर में पहुंची। इसमें प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह सहित कई जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए।> > गौर करने वाली बात ये है कि कुंभ की नीति निर्धारण करने वाली सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़े परिषद द्वारा इस अखाड़े को सिंहस्थ के लिए मान्यता नहीं दी गई है। उसके बावजूद मेला क्षेत्र में किन्नर अखाडे को शिविर के लिए भूमि आवंटन की गई है।



और भी पढ़ें :