मंगलवार, 23 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. मनोरंजन
  2. पर्यटन
  3. सागर किनारे
  4. मालदीव्स छोड़ो मॉरिशस जाओ, जानिए जानें पर्यटन स्थलों के साथ ही रुकने की खास जगहें
Written By WD Feature Desk
Last Updated : सोमवार, 19 फ़रवरी 2024 (14:47 IST)

मालदीव्स छोड़ो मॉरिशस जाओ, जानिए जानें पर्यटन स्थलों के साथ ही रुकने की खास जगहें

मालदीव से अच्‍छे मॉरिशस के प्रमुख पर्यटन स्थल, कैसे जाएं इस टापू द्वीप पर

Mauritius
information about Mauritius country: मॉरीशस एक समुद्री टापू है। यह भी बहुत ही खूबसूरत देश है। यह देश भारतीयों को पासपोर्ट के आधार पर बिना वीजा के प्रवेश देता है। आप यहां बिना वीजा के 90 दिनों तक यात्रा कर सकते है। यह भी एक हिन्दू बहुल राष्ट्र है। यहां हिंदी, अंग्रेजी के साथ यहां की स्थानीय भाषा बोली जाती है। यदि आप विदेशी धरती पर और वह भी किसी द्वीप पर घूमना चाहते हैं तो मालदीव से अच्छा मॉरीशस है।
 
मॉरिशस का परिचय: पोर्ट लुईस मॉरीशस की राजधानी है। अन्य मुख्य शहर हैं मोका, क्योरपाइप, वाकोस, फोइनिक्स, क्वाटरे बोर्नस, रोस हिल, बिउ बासिन आदि। मॉरीशस का क्षेत्रफल करीब 330 वर्ग किलोमीटर है तथा आसपास बहुत ही शानदार समुद्री किनारे हैं। मॉरीशस के प्राकृतिक सौन्दर्य को देखकर ऐसा लगता है मानो धरती से स्वर्ग में आ गए हों। मॉरीशस की मुद्रा रुपी है परन्तु यूरोप के पर्यटकों के लिए वस्तुओं की कीमत यूरो में होगी।
 
एडवेंचर एक्टिविटी : कुछ समुद्र के किनारे कोरल रीफ से घिरे हुए हैं। समुद्र के किनारे मनोरंजन की सारी सुविधाएं उपलब्ध हैं। विभिन्न प्रकार की वॉटर एक्टिवीटी, स्पोर्ट, वाटर सर्फिंग, वाटर स्कीइंग, पैरासेलिंग, सबमैरीन डाइव, जल स्कूटर, राइडिंग, ट्यूब राइडिंग, वोट सेलिंग आदि सभी कुछ यहां पर है।
 
समुद्री तट : मॉरीशस में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह बेल्ले मेयर प्लेज बीच है। ट्रू ऑक्स बीच और ले मोर्ने ब्रेंट बीच भी मॉरिशस की सबसे मनमोहक जगह है।
 
सर सीवूसागर रामगुलाम बॉटनिकल गार्डन : सर सीवूसागर रामगुलाम बॉटनिकल गार्डन को पोम्प सस बोटैनिकल गार्डन भी कहते हैं जोकि मॉरिशस के प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। इसके अलावा ला वननिल्ले क्रोकोडाइल पार्क, सिटाडेल फोर्ट एडिलेड, चेम्प दे मार्स पोर्ट लुइस और ग्रांड बेसिन जाना न भूलें।
 
पोर्ट लुईस : पोर्ट लुईस एक प्रमुख व्यापारिक तथा पर्यटक स्थल है। इस शहर में घूमने के लिए आप बाल्टर बीच (पुल) पर टहल सकते हैं। इस बीच का प्राकृतिक सौन्दर्य मनभावन है। थोड़ी ही दूर में वालंटियर प्वाइंट पर्यटक स्थल है। मॉरीशस में मोका एक प्रमुख शहर है। यहां पर आप महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट देख सकते हैं।
 
रोस हिल : इस शहर में खरीदारी के लिए माल्स, अरब टाउन मार्केट तथा टाउन सेंटर बाज़ार प्रसिद्ध हैं। 
 
क्योरपाइप : यह शहर शॉपिंग तथा भारतीय वस्त्रों के लिए प्रसिद्ध है। बॉटनिकल गार्डन्स तथा ट्राउ और सर्फस क्रेटर अब पर्यटक स्थल के रूप में लोकप्रिय हैं।
 
माहेबर्ग : माहेबर्ग में नेशनल हिस्ट्री म्यूजियम एक महत्वपूर्ण दर्शनीय स्थल है। यहां पर नाट्री डेम देस एंगेस (चर्च) प्रसिद्ध स्थल है। मॉरीशस में हस्तशिल्प बहुत ही प्रसिद्ध है। यह कला काफी सालों से चलती आ रही है।
 
पैंपलमाउसेस- यहाँ का शुगर एडवेंचर म्यूज़ियम बहुत ही मशहूर है। इस म्यूज़ियम में मॉरीशस के सांस्कृतिक तथा साहित्यिक जानकारियाँ उपलब्ध हैं।
 
कासेला बर्ड पार्क- ब्लैक नदी के पास स्थित यह पार्क 20 किलोमीटर जमीन पर स्थित है। इस जगह पर 140 प्रकार के पक्षी पाए जाते हैं। प्रमुख आकर्षण का केन्द्र है पिंक पिंजन पक्षी। यह पक्षी आसानी से दिखाई नहीं देते। अन्य मुख्य आकर्षण के केन्द्र हैं- शेर, तालाब में पाई जाने वाली मछली, कछुआ, बंदर आदि।
sea ocean depth
ग्रान्ड बेसिन मारे आक्स वाकोस : ग्रान्ड बेसिन मारे आक्स वाकोस शहर से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। आइलैंड के एक लुप्त ज्वालामुखी में दो झील इस जगह पर मिलती हैं। यह एक धार्मिक स्थल है। यहां पर महाशिवरात्रि के समय मॉरीशस में रहने वाले हिन्दू धर्म के लोग भगवान शिव की पूजा-अर्चना करते हैं।      
 
दो झीलें : ग्रान्ड बेसिन मारे आक्स वाकोस शहर से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। आइलैंड के एक लुप्त ज्वालामुखी में दो झील इस जगह पर मिलती हैं। यह एक धार्मिक स्थल है। यहां पर महाशिवरात्रि के समय मॉरीशस में रहने वाले हिन्दू धर्म के लोग भगवान शिव की पूजा-अर्चना करते हैं।
 
मॉरीशस के व्यंजन : मॉरीशस के व्यंजन पर्यटकों के मन को लुभा लेते हैं। यहां के व्यंजनों में काफी विविधता है। यहां पर मुख्य रूप से क्रिओल, फ्रेंच तथा चायनीज़ लोग रहते हैं तथा इसी सांस्कृतिक मिश्रण का प्रभाव व्यंजनों पर दिखाई देता है। भारतीय संस्कृति का प्रभाव भी यहाँ के खानपान पर नज़र आता है। भारत की प्रसिद्ध मिठाइयां गुलाब जामुन और रसगुल्ला इस जगह उपलब्ध हैं।
 
कब जा सकते हैं यहां पर : इस द्वीप में सफर करने के लिए मई से दिसंबर तक का समय उपयुक्त है। इस क्षेत्र की प्रमुख भाषा क्रियोल है। अन्य भाषाएँ जो यहाँ प्रचलित हैं, वे है अँग्रेजी, फ्रेंच, हिंदी, क्रियोल।
 
कहां रुकें : ट्रॉपिकल कोकोनट होटल, ग्रांड बोइस, लेक्लेजियो स्ट्रीट अपार्टमेंट, स्वीट आइलैंड या सी पॉइंट बुटिक होटल का चयन कर सकते हैं। ऑनलाइन और भी कई ऑप्शन आपको मिल जाएंगे। 
 
कैसे जाएं:
भारत से मॉरीशस की दूरी करीब 5110 किलोमीटर है। भारत से सीधे वायुयान सेवा मॉरीशस तक पहुंचने के लिए उपलब्ध है। फ्लाइट का किराया वर्तमान में करीब 30 से 32 हजार पड़ता है।