26 के आतंक में भारत!

छब्बीस सावधानी का संकेत देती है

स्मृति आदित्य|
ND
26 जनवरी। हमारा राष्ट्रीय पर्व। एक अत्यंत शुभ दिन। वह दिन जब हमने अपना लागू किया था। जनता का, जनता के लिए, जनता द्वारा शासन को सर्व सम्मति से स्वीकार किया था। इस दिन की शुभता पर भला कैसे प्रश्न चिन्ह खड़े किए जा सकते हैं? फिर भी पता नहीं क्यों रह-रह कर याद आती है देश को संकट में डालने वाली तमाम 26 तारीखें।

वे तारीखें जो भयावह है। जो दिल को दहला देने वाली है। वे 26 तारीखें जिनमें चीख और चित्कार गूँज रही है। वे 26 तारीखें जिनसे कंपन और रूदन उठकर आ रहा है। इसे ज्योतिष की दृष्टि से कुयोग भी कैसे कहें? इसी दिन देश का आता है। एक पवित्र दिवस।
किन्तु क्या यह भी सच नहीं है कि इस एक दिनांक के अलावा हमारे देश ने अतीत में 26 तारीख की अशुभता को झेला है। अंक शास्त्र इस दिनांक को अशुभ कहता है। यह दानवी शक्तियों को सफलता देने वाली दिनांक कही गई है। माना गया है कि 23 का अंक भारतीय परिप्रेक्ष्य में शुभ है वहीं 26 का अंक इसके उलटे परिणाम देता है। देखने में 23 जहाँ ॐ का आभास देता है वहीं 26 अशुभ चिन्ह बनता है। जो भारत के मूलांक के विपरीत होने से बार-बार संकट में डालता है। हम इस सच को चाहे तब भी नहीं नकार सकते।
याद कीजिए 26 जनवरी 2001 की वह सुबह। जब सारा देश गणतंत्र दिवस की सुनहरी भोर में तिरंगा फहराने की तैयारी कर रहा था। और काँप उठी थी धरती। थरथरा उठे थे वे हाथ जो अर्घ्य चढ़ा रहे थे गणतंत्र के सूर्य को। देखते ही देखते गुजरात के विनाशकारी भूकंप ने हजारों की संख्या में जनता की बलि ले ली। कितने ही मासूम होश में आने से पहले, बिना किसी दोष के, समा गए धरती की गोद में। उस दिन की भयानक याद आज भी डरा जाती है।
इतिहास में 26 फरवरी 2002 की दिनांक भी एक काले दिन के रूप में दर्ज है। गोधरा कांड की लपलपाती लपटों में ‍‍कितने ही दिल झुलस गए। बार-बार बदलते बयानों के तमाशों के बीच गोधरा ट्रेन की राख में सच दब कर रह गया।

सरकारी रिपोर्ट् के आँकड़ों के पीछे से झाँकता सच तड़प कर बाहर भी आना चाहे तो अब हमें कहाँ समय उसे सुनने-समझने का। क्योंकि उसके बाद की कितनी ही 26 तारीखों का जख्म रिस रहा है। किस-किस का मातम मनाएँ? और कब तक?
विनाश और 26 तारीख का संबंध है कि खत्म होता ही नहीं। विनाश चाहे प्रकृतिजन्य हो या मनुष्यजनित उसने अपनी क्रूरता के कई किस्से इतिहास में दर्ज किए हैं।

26 अगस्त 2003 में नासिक के कुंभ मेले में सैकड़ों लोग मारे गए वहीं 26 दिसंबर 2004 में उमड़ी सूनामी का कहर सिहरा देता है। हत्यारी लहर ने हजारों मानवों को निगल लिया। विकास का दावा करने वाला प्रगतिशील इंसान स्तब्ध सा खड़ा रह गया। सूनामी के ‍िदए आँसू अभी सूखे भी नहीं थे कि 26 जून 2004 में गुजरात में आई भीषण बाढ़ ने जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया।
FILE


प्रकृति का यह कोप इतने पर भी नहीं थमा और 26 जुलाई 2005 में मुंबई की असंयमित बाढ़ आँसूओं का सैलाब लेकर आई। इस बाढ़ ने मुंबई के घर-घर में बेबसी की छाप छोड़ी। प्रकृति की क्रूरता को सहन करना मानवता की बेबसी हो सकती है। मगर मनुष्य की बर्बरता को बर्दाश्त करना बेबसी नहीं कमजोरी है।
भारत की सुंदर धरा पर ना जाने किसने रोपी है दरिंदगी की फसल? आए दिन के बम ब्लास्ट से धरती रक्तरंजित हो रही है। 26 मई 2007 में गोवाहाटी में हुए ब्लास्ट ने सैकड़ों लोगों को मौत के घाट उतार दिया। वहीं 26 जुलाई 2008 के अहमदाबाद ब्लास्ट ने प्रशासन की नींद उड़ा दी।

इस ब्लास्ट के बाद देश के अन्य हिस्सों में जिस सतर्कता और सक्रियता की जरूरत थी वह निश्चित रूप से नहीं हुई। परिणाम हम सबके सामने है एक और 26/11। मुंबई हमले में सैकड़ों लोगों की नृशंस हत्या ने हर भारतवासी को छलनी कर दिया। देश के कर्मठ सिपाही, पुलिस अधिकारी खिलौनों की तरह हमारे सामने नष्ट कर दिए गए।
इन 26 तारीखों के खूनी इतिहास ने आशंकित कर दिया है हर मन को। कहीं फिर किसी 26 को कोई स्याह दिन हमारे विश्वास को ना लूट लें। अंधविश्वास की बात ना करें तब भी सावधानी के संकेत तो देती ही है 26 तारीख। काश, कोई 26 शुभता लेकर आए गणतंत्र दिवस की तरह।



और भी पढ़ें :